1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Rupee Rises: 1985 के बाद पहली बार लगातार 10 महीने लुढ़का रुपया, 8 पैसे बढ़कर 82.73 रुपये प्रति डॉलर पहुंचा

Rupee Rises: 1985 के बाद पहली बार लगातार 10 महीने लुढ़का रुपया, 8 पैसे बढ़कर 82.73 रुपये प्रति डॉलर पहुंचा

Rupee Rises : भारतीय मुद्रा रुपया में बीते कई महीनों से उतार चढ़ाव जारी है। एक बार फिर स्थानीय मुद्रा में तेजी लौटी है। हालांकि यह गिरावट की तुलना में रुपया में तेजी मामूली आई है। हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन यानी मंगलवार को रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में 8 पैसे बढ़कर 82.73 रुपये प्रति डॉलर पर पहुंच गया है।

By प्रिया सिंह 
Updated Date

Rupee Rises : भारतीय मुद्रा रुपया में बीते कई महीनों से उतार चढ़ाव जारी है। एक बार फिर स्थानीय मुद्रा में तेजी लौटी है। हालांकि यह गिरावट की तुलना में रुपया में तेजी मामूली आई है। हफ्ते के दूसरे कारोबारी दिन यानी मंगलवार को रुपया अमेरिकी डॉलर की तुलना में 8 पैसे बढ़कर 82.73 रुपये प्रति डॉलर पर पहुंच गया है।

पढ़ें :- India and New Zealand T20 Series: भारत ने न्यूजीलैंड को 168 रनों से हराया, सीरीज पर भी किया कब्जा

बता दें इससे पहले बीते कारोबारी सप्ताह सोमवार को रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 34 पैसे नीचे जाकर 82.81 पर बंद हुआ था। ऐसा पहला आया कि 1985 के बाद पहली बार लगातार 10 महीने रुपया डॉलर की तुलना में गिरावट रही है। फिलहाल, मंगलवार को रुपया में यह तेजी घरेलू शेयर में सकारात्मक रुख के चलते आई है।

82.74 पर खुला रुपया

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में आज रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 82.74 पर खुला। उसके बाद बढ़त लेते हुए 82.73 पर आ गया,जोकि पिछले बंद भाव की तुलना में 7 पैसे की वृद्धि को दर्शाता है।

डॉलर सूचकांक भी लुढ़का

पढ़ें :- India and New Zealand T20 Series: शुभमन गिल के तूफानी शतक के साथ टीम इंडिया ने दिया न्यूजीलैंड को 235 रनों का लक्ष्य

इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले अमेरिकी डॉलर की स्थिति को दर्शाने वाला डॉलर सूचकांक में गिरावट आई है। आज यह 0.19 फीसदी नीचे जाकर 111.31 पर पहुंच गया है।

RBI बैठक तय करेगी चाल

बाजार विशेषज्ञ का कहना है कि भारतीय मुद्रा डॉलर की तुलना में 81.80 से 83.30 के बीच कारोबार कर सकता है। भविष्य में भी इसमें गिरावट रही है। पिछले अक्टूबर महीने में रुपया 1.77 फीसदी टूटा है। दरअसल, रुपए की चाल इस सप्ताह होने वाले कई केंद्रीय बैंकों की बैठक से भी तय होने वाली है। ऐसे अनुमान लगाए जा रहे हैं कि इस बैठक में नीतिगत दरों में फिर से इजाफा हो सकता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...