1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. रूस ने भारत को S-400 मिसाइल प्रणाली की डिलीवरी की शुरू: यह भारत की वायु रक्षा को कैसे बढ़ावा देगा

रूस ने भारत को S-400 मिसाइल प्रणाली की डिलीवरी की शुरू: यह भारत की वायु रक्षा को कैसे बढ़ावा देगा

S-400 ट्रायम्फ वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली लंबी दूरी पर दुश्मन के लड़ाकू विमानों और क्रूज मिसाइलों को बाहर निकालने की भारत की क्षमताओं को एक बड़ा बढ़ावा देगी।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

फेडरल सर्विस फॉर मिलिट्री-टेक्निकल कोऑपरेशन (FSMTC) के निदेशक दिमित्री शुगेव ने रविवार को घोषणा की कि रूस ने भारत को S-400 Triumf सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली पहुंचाना शुरू कर दिया है।

पढ़ें :- भारत में बिटकॉइन को कानूनी निविदा के रूप में स्वीकार नहीं किया गया, सरकार का कहना है इसके लेनदेन पर कोई डेटा नहीं

उत्पादन के सभी प्रौद्योगिकी संबंधी चरणों को पूरा कर लिया गया है। साथ ही भारत को उपकरण हस्तांतरित करने के साथ-साथ स्वीकृति की पूरी प्रक्रिया पूरी कर ली गई है।

कैसे होगा फायदा?

S-400 ट्रायम्फ वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली लंबी दूरी पर दुश्मन के लड़ाकू विमानों और क्रूज मिसाइलों को बाहर निकालने की भारत की क्षमताओं को एक बड़ा बढ़ावा देगी। मिसाइल ऐसे समय में आई है जब भारत लद्दाख सेक्टर में चीन के साथ गतिरोध में बंद है।

चीन पहले ही लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में क्रमशः तिब्बत में नगारी गार गुंसा और निंगची एयरबेस पर दो एस-400 स्क्वाड्रन तैनात कर चुका है। इसलिए, एस-400 ट्रायम्फ सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल प्रणाली भारत के लिए महत्वपूर्ण है।

पढ़ें :- अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 37 पैसे टूटकर 74.89 पर

इसे कैसे तैनात किया जाएगा?

सिस्टम को पहले देश की पश्चिमी सीमा के करीब एक स्थान पर तैनात किया जाएगा, जहां से यह पाकिस्तान और चीन के साथ सीमाओं के दोनों हिस्सों से खतरों से निपट सकता है। दुनिया में सबसे अच्छी मानी जाने वाली यह प्रणाली एक बार लागू हो जाने के बाद न केवल पता लगाने में सक्षम होगी बल्कि निम्न और उच्च लक्ष्यों को नष्ट करने में भी सक्षम होगी। यह मिसाइलों का एक ग्रिड भी बनाएगा, जिसके माध्यम से प्रवेश नहीं किया जा सकता है।

S-400 वायु रक्षा प्रणाली प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच वार्षिक शिखर सम्मेलन के अंत में 2018 में दोनों देशों के बीच एक अनुबंध था। 5.43 बिलियन अमेरिकी डॉलर की यह लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल (एसएएम) प्रणाली भारत की वायु रक्षा को मजबूत करने में मदद करेगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...