ब्रिटेन-रूस जंग में कूदा भारत, PM मोदी और पुतिन की फोन पर लंबी बात

ब्रिटेन, रूस ,  PM मोदी
ब्रिटेन-रूस जंग में कूदा भारत, PM मोदी और पुतिन की फोन पर लंबी बात

नई दिल्ली। रूस और ब्रिटेन के मध्य पूर्व जासूस डबल एजेंट सर्गेई स्क्रिपाल और उसकी बेटी यूलिया पर रासायनिक हमले को लेकर चल रही जंग के बीच अब भारत भी कूद गया है। भारत ने गुरुवार को दो टूक कहा कि वह रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ है और मामले का समाधान रासायनिक हथियार संधि के प्रावधानों के अनुरूप किया जाना चाहिए। भारत का यह बयान लंदन में अगले सप्‍ताह होने जा रहे राष्‍ट्रमंडल प्रमुखों की बैठक से पहले आया है, जिसमें माना जा रहा है कि रासायनिक हथियारों से जुड़े मुद्दे को उठाया जा सकता है।

Russian Pm Putin Held Phone Call With Indian Pm Narendra Modi :

रासायनिक हथियारों के खिलाफ है भारत

पीएम ने गुरुवार को राष्ट्रपति पुतिन से कहा कि भारत रासायनिक हथियारों के खिलाफ है और इसके इस्तेमाल के पक्ष में भी हम नहीं हैं। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए पीएम ने कहा कि अगर ऐसा कोई मामला आता है तो उसका ‘रासायनिक हथियार संधि’ के प्रावधानों को अनुसार ही समाधान करना चाहिए। भारत-रूस संबंधों पर भी दोनों नेताओं ने काफी देर तक चर्चा की और एक-दूसरे के साथ हमेशा खड़े रहने की बात की।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति पुतिन ने 11 अप्रैल को टेलीफोन पर बातचीत की। विदेश मंत्रालय ने बातचीत का ब्योरा देने से इंकार कर दिया है। उल्लेखनीय है कि पूर्व रूसी राजनयिक को ब्रिटेन में जहर दिए जाने के बाद से पश्चिमी देशों और रूस के बीच विवाद चरम पर है। पश्चिमी देशों के साथ रूस के गहराते विवाद के बीच मोदी और पुतिन की बातचीत को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

नई दिल्ली। रूस और ब्रिटेन के मध्य पूर्व जासूस डबल एजेंट सर्गेई स्क्रिपाल और उसकी बेटी यूलिया पर रासायनिक हमले को लेकर चल रही जंग के बीच अब भारत भी कूद गया है। भारत ने गुरुवार को दो टूक कहा कि वह रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के खिलाफ है और मामले का समाधान रासायनिक हथियार संधि के प्रावधानों के अनुरूप किया जाना चाहिए। भारत का यह बयान लंदन में अगले सप्‍ताह होने जा रहे राष्‍ट्रमंडल प्रमुखों की बैठक से पहले आया है, जिसमें माना जा रहा है कि रासायनिक हथियारों से जुड़े मुद्दे को उठाया जा सकता है।

रासायनिक हथियारों के खिलाफ है भारत

पीएम ने गुरुवार को राष्ट्रपति पुतिन से कहा कि भारत रासायनिक हथियारों के खिलाफ है और इसके इस्तेमाल के पक्ष में भी हम नहीं हैं। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए पीएम ने कहा कि अगर ऐसा कोई मामला आता है तो उसका 'रासायनिक हथियार संधि' के प्रावधानों को अनुसार ही समाधान करना चाहिए। भारत-रूस संबंधों पर भी दोनों नेताओं ने काफी देर तक चर्चा की और एक-दूसरे के साथ हमेशा खड़े रहने की बात की।विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी और राष्ट्रपति पुतिन ने 11 अप्रैल को टेलीफोन पर बातचीत की। विदेश मंत्रालय ने बातचीत का ब्योरा देने से इंकार कर दिया है। उल्लेखनीय है कि पूर्व रूसी राजनयिक को ब्रिटेन में जहर दिए जाने के बाद से पश्चिमी देशों और रूस के बीच विवाद चरम पर है। पश्चिमी देशों के साथ रूस के गहराते विवाद के बीच मोदी और पुतिन की बातचीत को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।