रूस में राष्ट्रपति चुनाव 18 मार्च को, फिर लड़ेंगे व्लादिमिर पुतिन

putin

मॉस्को। रूस की संघीय परिषद यानी संसद के ऊपरी संसद ने शुक्रवार को आधिकारिक रूप से देश में राष्ट्रपति चुनाव की तारीख तय कर दी। देश में 18 मार्च, 2018 को चुनाव होंगे। संघीय परिषद की संवैधानिक विधान समिति के अध्यक्ष एंद्रेई क्लिसहास ने जारी एक बयान में कहा कि तारीख तय करने से संबंधित प्रस्ताव प्रभावी होने के साथ ही चुनाव अभियान की शुरुआत हो गई है।

Russias Presidential Election On March 18 Then Vladimir Putin :

सूत्रों के मुताबिक, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चौथी बार राष्ट्रपति चुनाव जीतने की उम्मीद है।  पुतिन ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव मैदान में उतरने की मंशा जताई है।सरकारी शोध केंद्र वीटीएसआईओएम द्वारा कराए गए सर्वेक्षण के मुताबिक, 10 दिसंबर तक पुतिन की रेटिंग 53.5 फीसदी थी, जो एक सप्ताह पहले 53 फीसदी थी। इस तरह पुतिन ने अपने सभी संभावित प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़ दिया है।

राष्ट्रपति की उम्मीदवारी के लिए निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पंजीकृत कराने के लिए एक उम्मीदवार को एक फरवरी, 2018 तक अपनी ओर से 300,000 मतदाताओं के हस्ताक्षर संग्रहित करने होते हैं। यदि कोई उम्मीदवार किसी राजनीतिक पार्टी के दायरे में चुनाव लड़ना चाहता है तो उस पार्टी को उम्मीदवार की ओर से 100,000 हस्ताक्षर संग्रहित करने होंगे। राष्ट्रपति चुनाव पहले 11 मार्च को होना था, लेकिन बाद में इसे 18 मार्च कर दिया गया।

मॉस्को। रूस की संघीय परिषद यानी संसद के ऊपरी संसद ने शुक्रवार को आधिकारिक रूप से देश में राष्ट्रपति चुनाव की तारीख तय कर दी। देश में 18 मार्च, 2018 को चुनाव होंगे। संघीय परिषद की संवैधानिक विधान समिति के अध्यक्ष एंद्रेई क्लिसहास ने जारी एक बयान में कहा कि तारीख तय करने से संबंधित प्रस्ताव प्रभावी होने के साथ ही चुनाव अभियान की शुरुआत हो गई है।सूत्रों के मुताबिक, राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को चौथी बार राष्ट्रपति चुनाव जीतने की उम्मीद है।  पुतिन ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव मैदान में उतरने की मंशा जताई है।सरकारी शोध केंद्र वीटीएसआईओएम द्वारा कराए गए सर्वेक्षण के मुताबिक, 10 दिसंबर तक पुतिन की रेटिंग 53.5 फीसदी थी, जो एक सप्ताह पहले 53 फीसदी थी। इस तरह पुतिन ने अपने सभी संभावित प्रतिद्वंद्वियों को पीछे छोड़ दिया है।राष्ट्रपति की उम्मीदवारी के लिए निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर पंजीकृत कराने के लिए एक उम्मीदवार को एक फरवरी, 2018 तक अपनी ओर से 300,000 मतदाताओं के हस्ताक्षर संग्रहित करने होते हैं। यदि कोई उम्मीदवार किसी राजनीतिक पार्टी के दायरे में चुनाव लड़ना चाहता है तो उस पार्टी को उम्मीदवार की ओर से 100,000 हस्ताक्षर संग्रहित करने होंगे। राष्ट्रपति चुनाव पहले 11 मार्च को होना था, लेकिन बाद में इसे 18 मार्च कर दिया गया।