एयरचीफ धनोआ का छलका दर्द, बोले- हम 44 साल पुराने मिग-21 उड़ा रहे हैं, इतनी पुरानी तो कोई कार भी नहीं चलाता

air
एयरचीफ धनोआ का छलका दर्द, बोले- हम 44 साल पुराने मिग-21 उड़ा रहे हैं, इतनी पुरानी तो कोई कार भी नहीं चलाता

नई दिल्ली। एनएआई वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने आज भारतीय‌ वायुसेना के पुराने पड़ चुके लड़ाकू विमानों को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में चुटकी लेते हुए कहा कि हम 44 साल पुराने मिग 21 उड़ा रहे हैं जबकि सड़क पर भी उस समय की विंटेज-कार चलाता कोई दिखाई नहीं देता है।

S India Iaf Air Chief Marshal Bs Dhanoa Says We Are Flying 44 Years Old Mig 21 :

वायुसेना का मिग 21 विमान चार दशक से ज्यादा पुराना हो गया है। लेकिन अभी भी यह विमान वायुसेना की रीढ़ की हड्डी बना हुआ है। दुनिया में शायद ही कोई देश इतना पुराना लड़ाकू विमान उड़ाता है। वजह है वायुसेना के पास मिग 21 के विकल्प के तौर पर कोई विमान नहीं हैं। इन विपरीत परिस्थितियों के बावजूद वायुसेना पूरे दमखम के साथ इसके भरोसे न केवल सरहद की हिफाजत करती है बल्कि दुश्मन की चुनौतियों का जवाब भी देती है।

सेमिनार में लोगों को संबोधित करते हुए वायुसेना प्रमुख धनोआ ने कहा कि हम पुराने उपकरणों को बदलने के लिए भारतीय तकनीक से बदलने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘हम पुराने उपरकरणों को बदलने के लिए भारतीय तकनीक का इंतजार नहीं कर सकते और न ही हर रक्षा उपकरण को विदेश से आयात करना समझदारी होगी। हम वर्तमान में उन्नत पुराने हथियारों को भारतीय तकनीक से बने हथियारों से बदलने का काम कर रहे हैं।

सीमा पर सतर्क और चौकन्नी है वायुसेना

भारत पाकिस्तान के बीच अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद से जारी तनाव पर धनोआ ने कहा कि सीमा पर वायुसेना सतर्क और चौकन्नी है। उन्होंने कहा, ‘हमने उनके सुरक्षा इंतजामों की जानकारी है। भारतीय वायुसेना हमेशा सतर्क रहती है। हम एयर डिफेंस के लिए जिम्मेदार हैं और हम हमेशा चौकन्ने रहते हैं। हमने न केवल दुश्मनों के लड़ाकू विमान पर नजर बनाई हुई है बल्कि हम नागरिक विमानों पर भी नजर रख रहे हैं ताकि पुरुलिया एयरड्रॉर जैसी घटना दोबारा न हो।’

नई दिल्ली। एनएआई वायुसेना प्रमुख बी एस धनोआ ने आज भारतीय‌ वायुसेना के पुराने पड़ चुके लड़ाकू विमानों को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की मौजूदगी में चुटकी लेते हुए कहा कि हम 44 साल पुराने मिग 21 उड़ा रहे हैं जबकि सड़क पर भी उस समय की विंटेज-कार चलाता कोई दिखाई नहीं देता है। वायुसेना का मिग 21 विमान चार दशक से ज्यादा पुराना हो गया है। लेकिन अभी भी यह विमान वायुसेना की रीढ़ की हड्डी बना हुआ है। दुनिया में शायद ही कोई देश इतना पुराना लड़ाकू विमान उड़ाता है। वजह है वायुसेना के पास मिग 21 के विकल्प के तौर पर कोई विमान नहीं हैं। इन विपरीत परिस्थितियों के बावजूद वायुसेना पूरे दमखम के साथ इसके भरोसे न केवल सरहद की हिफाजत करती है बल्कि दुश्मन की चुनौतियों का जवाब भी देती है। सेमिनार में लोगों को संबोधित करते हुए वायुसेना प्रमुख धनोआ ने कहा कि हम पुराने उपकरणों को बदलने के लिए भारतीय तकनीक से बदलने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, 'हम पुराने उपरकरणों को बदलने के लिए भारतीय तकनीक का इंतजार नहीं कर सकते और न ही हर रक्षा उपकरण को विदेश से आयात करना समझदारी होगी। हम वर्तमान में उन्नत पुराने हथियारों को भारतीय तकनीक से बने हथियारों से बदलने का काम कर रहे हैं। सीमा पर सतर्क और चौकन्नी है वायुसेना भारत पाकिस्तान के बीच अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद से जारी तनाव पर धनोआ ने कहा कि सीमा पर वायुसेना सतर्क और चौकन्नी है। उन्होंने कहा, 'हमने उनके सुरक्षा इंतजामों की जानकारी है। भारतीय वायुसेना हमेशा सतर्क रहती है। हम एयर डिफेंस के लिए जिम्मेदार हैं और हम हमेशा चौकन्ने रहते हैं। हमने न केवल दुश्मनों के लड़ाकू विमान पर नजर बनाई हुई है बल्कि हम नागरिक विमानों पर भी नजर रख रहे हैं ताकि पुरुलिया एयरड्रॉर जैसी घटना दोबारा न हो।'