1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. कांग्रेस हाईकमान के महासचिव पद की पेशकश को सचिन पायलट ने ठुकराया

कांग्रेस हाईकमान के महासचिव पद की पेशकश को सचिन पायलट ने ठुकराया

राजस्थान में अशोक गहलोत-सचिन पायलट के बीच सत्ता को लेकर संघर्ष जारी है। इस घमासान को देखते हुए राजस्थान में नेताओं की दिल्ली के लिए दौड़ जारी है। पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट, प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी इन दिनों राजधानी में डेरा जमाए हुए हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। राजस्थान में अशोक गहलोत-सचिन पायलट के बीच सत्ता को लेकर संघर्ष जारी है। इस घमासान को देखते हुए राजस्थान में नेताओं की दिल्ली के लिए दौड़ जारी है। पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट, प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी इन दिनों राजधानी में डेरा जमाए हुए हैं।

पढ़ें :- किसानों के भारत बंद को समर्थन दे सकती है कांग्रेस, सोनिया गांधी को पत्र लिख की गई सिफारिश
Jai Ho India App Panchang

इन सबका मकसद हाईकमान के सामने अपनी स्थिति स्पष्ट करने की है। फिलहाल प्रियंका गांधी के शिमला जाने के कारण शनिवार को पायलट की उनसे मुलाकात नहीं हो पाई। इसी बीच हाईकमान ने सुलह फार्मूले में पायलट को पार्टी महासचिव बनने का आफर दिया था, जिसे पायलट ने ठुकरा दिया है। बता दें कि गहलोत सरकार में मंत्रिमंडल विस्तार के संकेत मिले हैं। ऐसे में अभी सीएम अशोक गहलोत के अलावा 10 कैबिनेट और 10 राज्य मंत्री हैं। मालूम हो कि गहलोत कुल 30 मंत्री बना सकते हैं।

इस स्थिति में राजस्थान में अभी 9 मंत्रियों को और जगह मिल सकती है। इन्हीं 9 पदों के लिए गहलोत और पायलट खेमा आमने सामने हैं। गहलोत सरकार के सामने परेशानी ये है कि वह अपने खेमें के विधायकों को पद दे, जो काफी समय से नजर गड़ाए बैठे हैं। पायलट खेमें को खुश करने के लिए उनके विधायकों को मंत्री बनाए।

उधर पायलट ने भी साफ कर दिया है कि, जब तक उनके विधायकों और समर्थकों को सरकार का हिस्सा नहीं बनाया जाता वह कोई भी पद नहीं लेंगे। हालांकि सूत्रों का यह भी कहना है कि पायलट को पार्टी ने महासचिव पद का ऑफर किया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। बता दें कि सचिन पायलट की पहली प्राथमिकता राजस्थान है। वे प्रदेश से बाहर नहीं जाना चाहते हैं।

पढ़ें :- हार्दिक, कन्हैया, मेवानी... युवा नेताओं को आउटसोर्स करने के पीछे जानें क्या है कांग्रेस की रणनीति
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...