​सचिन पायलट ने पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया, उम्मीद है हालात संभाले जा सकते हैं : जितिन प्रसाद

jitin
​सचिन पायलट ने पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया, उम्मीद है हालात संभाले जा सकते हैं : जितिन प्रसाद

नई दिल्ली। राजस्थान की राजनीति में उठापटक जारी है। गहलोत सरकार ने सचिन पायलट समेत तीन मंत्रियों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें बर्खास्त कर दिया है। इसके साथ ही सचिन पायलट से प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी भी छीन ली गयी है। इसको लेकर कांग्रेस के दिग्गज नेता जितिन प्रसाद ने कहा है कि इस तथ्य को नकारा नहीं जा सकता कि पायलट ने इतने वर्षों तक पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है।

Sachin Pilot Worked For The Party With Dedication Hope The Situation Can Be Handled Jitin Prasad :

जितिन प्रसाद ने उम्मीद जताई कि है कि स्थिति अब भी सुलझ जाएंगी। जितिन प्रसाद ने ट्वीट कर कहा है कि, सचिन पायलट मेरे मित्र हैं। इस तथ्य को कोई नकार नहीं सकता कि इतने वर्षों में उन्होंने पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है। उम्मीद करता हूं कि हालात संभाले जा सकते हैं। दुखद है कि बात यहां तक पहुंची।

गौरतलब है कि अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावती रुख अपनाने के लिए पायलट एवं उनके साथी नेताओं के खिलाफ कांग्रेस ने कड़ी कार्रवाई की है। पायलट को उपमुख्यमंत्री पद के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है। वहीं, सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि, ‘सचिन पायलट के हाथ में कुछ भी नहीं हैं। वह तो केवल भाजपा के हाथ में खेल रहे हैं… जो रिसॉर्ट सहित बाकी सारे बंदोबस्त करने में जुटी है।

पिछले छह महीने से राज्य में विधायकों की खरीद फरोख्त के प्रयास चल रहे थे। ‘पायलट सहित तीन मंत्रियों को उनके पदों से हटाए जाने के फैसले की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी ने मजबूर होकर यह फैसला किया है। गहलोत ने कहा, ‘आज के फैसले से कोई खुश नहीं है, न पार्टी, न आलाकमान।

 

नई दिल्ली। राजस्थान की राजनीति में उठापटक जारी है। गहलोत सरकार ने सचिन पायलट समेत तीन मंत्रियों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें बर्खास्त कर दिया है। इसके साथ ही सचिन पायलट से प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी भी छीन ली गयी है। इसको लेकर कांग्रेस के दिग्गज नेता जितिन प्रसाद ने कहा है कि इस तथ्य को नकारा नहीं जा सकता कि पायलट ने इतने वर्षों तक पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है। जितिन प्रसाद ने उम्मीद जताई कि है कि स्थिति अब भी सुलझ जाएंगी। जितिन प्रसाद ने ट्वीट कर कहा है कि, सचिन पायलट मेरे मित्र हैं। इस तथ्य को कोई नकार नहीं सकता कि इतने वर्षों में उन्होंने पार्टी के लिए समर्पण भाव से काम किया है। उम्मीद करता हूं कि हालात संभाले जा सकते हैं। दुखद है कि बात यहां तक पहुंची। गौरतलब है कि अशोक गहलोत सरकार के खिलाफ बगावती रुख अपनाने के लिए पायलट एवं उनके साथी नेताओं के खिलाफ कांग्रेस ने कड़ी कार्रवाई की है। पायलट को उपमुख्यमंत्री पद के साथ-साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से भी हटा दिया गया है। वहीं, सीएम अशोक गहलोत ने कहा है कि, 'सचिन पायलट के हाथ में कुछ भी नहीं हैं। वह तो केवल भाजपा के हाथ में खेल रहे हैं... जो रिसॉर्ट सहित बाकी सारे बंदोबस्त करने में जुटी है। पिछले छह महीने से राज्य में विधायकों की खरीद फरोख्त के प्रयास चल रहे थे। 'पायलट सहित तीन मंत्रियों को उनके पदों से हटाए जाने के फैसले की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि पार्टी ने मजबूर होकर यह फैसला किया है। गहलोत ने कहा, 'आज के फैसले से कोई खुश नहीं है, न पार्टी, न आलाकमान।