इराक के पूर्व तानाशाह सद्दाम हुसैन का शव कब्र से हुआ गायब  

इराक के पूर्व तानाशाह सद्दाम हुसैन का शव कब्र से हुआ गायब  
इराक के पूर्व तानाशाह सद्दाम हुसैन का शव कब्र से हुआ गायब  
बगदाद। फांसी की सजा पा चुके इराक के पूर्व तानाशाह सद्दाम हुसैन की कब्र अब टूटे-फूटे कंक्रीट से ज्यादा कुछ नहीं बची है। सद्दाम की मौत के बाद उनके गांव अल-अवजा में शव को दफनाया गया था लेकिन अब उनके शव के कोई भी अवशेष वहां मौजूद नहीं हैं। जी हां, न्‍यूज एजेंसी एएफपी की ओर से इस बारे में एक रिपोर्ट के जरिए जानकारी दी गई है। सद्दाम हुसैन ने करीब 20 वर्षों तक इराक पर शासन किया और…

बगदाद। फांसी की सजा पा चुके इराक के पूर्व तानाशाह सद्दाम हुसैन की कब्र अब टूटे-फूटे कंक्रीट से ज्यादा कुछ नहीं बची है। सद्दाम की मौत के बाद उनके गांव अल-अवजा में शव को दफनाया गया था लेकिन अब उनके शव के कोई भी अवशेष वहां मौजूद नहीं हैं।

जी हां, न्‍यूज एजेंसी एएफपी की ओर से इस बारे में एक रिपोर्ट के जरिए जानकारी दी गई है। सद्दाम हुसैन ने करीब 20 वर्षों तक इराक पर शासन किया और 30 दिसंबर 2006 को उन्‍हें फांसी पर लटकाया गया था। उस समय अमेरिका के राष्‍ट्रपति जॉर्ज बुश थे और उन्‍होंने खुद मिलिट्री हेलीकॉप्‍टर से सद्दाम की डेड बॉडी को बगदाद रवाना किया और फिर अल-अवजा में उन्‍हें दफनाया गया था।

{ यह भी पढ़ें:- अमेठी: नन्ही जान की बिसात ही क्या! }

कब्र से गायब हुआ सद्दाम का शव

सद्दाम की मौत को12 वर्ष पूरे होने वाले हैं लेकिन इतने वर्षों के बाद अब उनके शव को लेकर सवाल उठा रहे हैं। जो सवाल एएफपी की रिपोर्ट में उठाए गए हैं उसके तहत सद्दाम का शव आखिर कहां गया, क्‍या वह अल-अवजा में ही है या फिर उसे खोदकर निकाल लिया गया और अगर निकाल लिया गया है तो फिर उनके शव को कहां ले जाया गया है? सद्दाम को जब फांसी की सजा सुनाई गई तो उनकी उम्र 69 वर्ष थी और फांसी देने के बाद तड़के ही उनके शव को दफना दिया गया था।

बेटी ले गई पिता का शव?

सद्दाम के लिए काम कर चुके एक लड़ाके ने यह भी आशंका जाहिर की कि सद्दाम की निर्वासित बेटी हाला एक निजी विमान से अवजाह आईं और पिता के शव को अपने साथ जॉर्डन ले गईं।

इस पर सद्दाम के समय के स्टूडेंट और अब प्रफेसर बन चुके एक शख्स ने नाम न जाहिर करने की शर्त पर बताया, ‘असंभव, हाला कभी इराक लौटी ही नहीं। शव को कहीं गुप्त स्थान पर ले जाया गया है। कोई नहीं जानता कि शव को कौन और कहां ले गया।’ पर कुछ अन्य लोगों की तरह ही बगदाद निवासी अबु समीर का मानना है कि सद्दाम अभी भी जिंदा है। उन्होंने कहा, ‘सद्दाम मरे नहीं। जिसे फांसी दी गई थी, वह उनके हमशक्लों में से एक था।’

{ यह भी पढ़ें:- बिहार MLC चुनाव : नीतीश, मोदी, राबड़ी सहित 11 निर्विरोध निर्वाचित }

Loading...