प्रज्ञा ठाकुर के फिर बोल बिगड़े अब दिग्विजय सिंह को कहा आतंकी, चुनाव आयोगी ने मांगी रिपोर्ट

sadhvi
साधवी प्रज्ञा को एनआईए कोर्ट से बड़ी राहत, चुनाव लड़ने से रोकने की याचिका खारिज

भोपाल। शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान देने के बाद भोपाल से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ने अब कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को लेकर विवादित बयान दिया है। साध्वी प्रज्ञा ने दिग्विजय को आतंकवादी बतायाए जिसके बाद चुनाव आयोग ने रिपोर्ट मांगी है।

Sadhvi Pragya Told Digvijay Singh As A Terrorist Ec Seeks Report :

प्रज्ञा गुरुवार को सीहोर में चुनाव प्रचार कार्यालय का उद्घाटन कर रही थीं तो उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह ने फैक्टरियां बंद कराईं। लोगों को बेरोजगार किया और खुद का व्यवसाय बढ़ाया। आप लोगों ने यह सब स्वयं भोगा है। राज्य में 16 साल पहले उमा दीदी ने हराया था और वह 16 साल मुंह नहीं उठा पायाए और राजनीति कर लेता इसकी कोशिश नहीं कर पाया।

अब फिर से सिर उठा है तो दूसरी सन्यासी सामने आ गई है जो उसके कर्मों का प्रत्यक्ष प्रमाण है। प्रज्ञा ने आगे कहा एक बार फिर ऐसे आतंकी का समापन करने के लिए संन्यासी को खड़ा होना पड़ा है। प्रज्ञा यहीं नहीं रुकीं श्यामपुर में सभा में बोलीं कि कांग्रेस साधु,संतों पर भगवा आतंकवाद का आरोप लगाकर जेल भेजती है। प्रज्ञा के इस बयान को लेकर चुनाव आयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए रिपोर्ट मांगी है।

मुख्य निवार्चन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने बताया कि सीहोर जिला प्रशासन से बयान के संदर्भ में रिपोर्ट मांगी गई है। बता दें कि भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाया है। वहीं एक सभा में दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने कभी आतंकवाद से समझौता नहीं किया। राजीव गांधी, इंदिरा गांधी, बेअंत सिंह सहित कई नेताओं ने देश के लिए बलिदान दिया है।

भाजपा बताए कि उसके किस नेता ने आज तक बलिदान दिया है। भाजपा ने हमेशा आतंकवाद से समझौता किया है। उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने कई सर्जिकल स्ट्राइक की, लेकिन कभी प्रचारित नहीं किया।

भोपाल। शहीद हेमंत करकरे को लेकर विवादित बयान देने के बाद भोपाल से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ने अब कांग्रेस उम्मीदवार और पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को लेकर विवादित बयान दिया है। साध्वी प्रज्ञा ने दिग्विजय को आतंकवादी बतायाए जिसके बाद चुनाव आयोग ने रिपोर्ट मांगी है। प्रज्ञा गुरुवार को सीहोर में चुनाव प्रचार कार्यालय का उद्घाटन कर रही थीं तो उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह ने फैक्टरियां बंद कराईं। लोगों को बेरोजगार किया और खुद का व्यवसाय बढ़ाया। आप लोगों ने यह सब स्वयं भोगा है। राज्य में 16 साल पहले उमा दीदी ने हराया था और वह 16 साल मुंह नहीं उठा पायाए और राजनीति कर लेता इसकी कोशिश नहीं कर पाया। अब फिर से सिर उठा है तो दूसरी सन्यासी सामने आ गई है जो उसके कर्मों का प्रत्यक्ष प्रमाण है। प्रज्ञा ने आगे कहा एक बार फिर ऐसे आतंकी का समापन करने के लिए संन्यासी को खड़ा होना पड़ा है। प्रज्ञा यहीं नहीं रुकीं श्यामपुर में सभा में बोलीं कि कांग्रेस साधु,संतों पर भगवा आतंकवाद का आरोप लगाकर जेल भेजती है। प्रज्ञा के इस बयान को लेकर चुनाव आयोग ने स्वत: संज्ञान लेते हुए रिपोर्ट मांगी है। मुख्य निवार्चन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने बताया कि सीहोर जिला प्रशासन से बयान के संदर्भ में रिपोर्ट मांगी गई है। बता दें कि भोपाल संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाया है। वहीं एक सभा में दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस ने कभी आतंकवाद से समझौता नहीं किया। राजीव गांधी, इंदिरा गांधी, बेअंत सिंह सहित कई नेताओं ने देश के लिए बलिदान दिया है। भाजपा बताए कि उसके किस नेता ने आज तक बलिदान दिया है। भाजपा ने हमेशा आतंकवाद से समझौता किया है। उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस ने कई सर्जिकल स्ट्राइक की, लेकिन कभी प्रचारित नहीं किया।