बंधुआ मजदूरी से किया इनकार तो दबंगों ने काट डाली महिला की नाक

सागर। मध्यप्रदेश के सागर जिले के रेंवझा गांव में मजदूरी से मना करने पर दबंगों ने 35 वर्षीय दलित महिला की कथित रूप से नाक काट दी और उसके पति के साथ बुरी तरह से पिटाई की। महिला का आरोप है कि उसे और उसके पति को जबरन बंधुआ मजदूरी करने के लिए कहा जा रहा था। इनकार करने पर उसकी नाक काट दी गई। मामले का संज्ञान लेते हुए मध्य प्रदेश महिला आयोग (MPWC) ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही है।

सुरखी पुलिस थाना प्रभारी आर एस बागरी ने बताया कि घटना सोमवार की है जब साहब सिंह और उसका बेटा नरेंद्र सिंह राघवेंद्र धानक के घर पहुंचे इसके बाद वे राघवेंद्र और उसकी पत्नी जानकी को अपने घर आकर काम करने का दबाव बनाने लगे। उन्होंने कहा कि जब राघवेन्द्र ने काम करने से मना कर दिया, तो बाप-बेटे भड़क गये और दोनों ने उसे गाली-गलौज देने के साथ-साथ उसकी बुरी तरह से डंडे से पिटाई कर दी। जब जानकी अपने घायल पति को अस्पताल ले जा रही थी, इसी दौरान सोमवार को ही नरेन्द्र एवं साहब ने उसकी नाक जख्मी कर दी। हालांकि, यह घटना कल तब प्रकाश में आई, जब पीडित महिला ने मध्य प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष लता वानखेड़े के सामने इस मामले में आरोपियों को सजा दिलवाने की गुहार लगाई।

{ यह भी पढ़ें:- अब बिना बाधा दिव्यांग करेंगे 'महाकाल' के दर्शन, मिलेंगी ये सुविधाएं }

जिसके बाद इस मामले में दलित और आर्थिक रूप से कमजोर परिवार की शिकायत को महिला आयोग की अध्यक्ष ने गंभीर मानते हुए पुलिस को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं तथा कहा कि आरोपियों को तुरंत गिरफ्तार किया जाये और उन्हें कडी से कड़ी सजा दी जाए। थाना प्रभारी बागरी ने बताया कि महिला की शिकायत पर हमने आरोपियों के खिलाफ भादंवि की धारा 323 एवं 324 सहित एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

{ यह भी पढ़ें:- मासूम का दर्द: आंटी चॉकलेट देकर भेज देती थीं, कमरे में अंकल लोग करते थे गंदे काम }

Loading...