भारत का यह बल्लेबाज किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए तैयार है

485119-wriddhiman-saha-pti_1_2028522_835x547-m

भारतीय टेस्ट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज रिद्धिमान साहा ने बुधवार को अपनी बल्लेबाजी क्रम में आने वाले बदलावों की बात को नकारते हुए कहा कि वह किसी भी क्रम पर बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हैं। भारत और श्रीलंका के बीच यहां शुक्रवार से शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट मैच से पहले साहा ने यह बात कही।

Saha Can Bat At Any Order In Test Matches :

साहा ने कहा, “ऐसा नहीं है कि मैं हमेशा नंबर-7 (और नंबर 8) पर बल्लेबाजी करता हूं। मैंने नंबर-6 पर भी बल्लेबाजी की है। हम (रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा) विपक्षी टीम के गेंदबाजी आक्रमण के मुताबिक अपने नंबर बदलते रहते हैं। श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता में खेले गए पहले टेस्ट मैच में साहा एक पारी में नंबर सात और दूसरी पारी में नंबर आठ पर आए थे।

साहा नंबर-6 पर बल्लेबाजी करते हैं लेकिन कोलकाता में दूसरी पारी में वह नंबर-8 पर उतरे थे जो आमतौर पर आज के दिनों में विकेटकीपर-बल्लेबाजों की जगह नहीं है। साहा ने कहा, “परिस्थति के हिसाब से बल्लेबाजी क्रम का पता चलता है कि नंबर छह, सात, आठ किस नंबर पर बल्लेबाजी करनी है। पहले मैच में भारत जीत के करीब आकर ड्रॉ के लिए मजबूर हो गया था। साहा का मानना है कि अगर भारत के पास कुछ और ओवर होते तो वह मैच जीत लेता। उन्होंने कहा, “हमने दूसरी पारी में अच्छी बल्लेबाजी की थी। शिखर धवन और लोकेश राहुल तथा विराट कोहली ने बल्ले से अच्छा योगदान दिया था। जब आप विपक्षी टीम के सात बल्लेबाज 100 के अंदर आउट कर लेते हो तो इससे आपका मनोबल बढ़ जाता है।”

साहा ने कहा, “हो सकता है अगर हमारे पास कुछ और समय होता तो हम जीत सकते थे। हमने कोशिश की, लेकिन अगर शुरुआत के कुछ फैसले जल्दी हो जाते तो मैच की कहानी अलग हो सकती थी। हम पहले सुरक्षित स्थिति में पहुंचाना चाहते थे और एक ऐसा स्कोर खड़ा करना चाहते थे जो पहुंच से बाहर हो और फिर आक्रमण करना चाहते थे। यह हमारी रणनीति थी। गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया।”

भारतीय टेस्ट टीम के विकेटकीपर-बल्लेबाज रिद्धिमान साहा ने बुधवार को अपनी बल्लेबाजी क्रम में आने वाले बदलावों की बात को नकारते हुए कहा कि वह किसी भी क्रम पर बल्लेबाजी करने के लिए तैयार हैं। भारत और श्रीलंका के बीच यहां शुक्रवार से शुरू होने वाले दूसरे टेस्ट मैच से पहले साहा ने यह बात कही।साहा ने कहा, "ऐसा नहीं है कि मैं हमेशा नंबर-7 (और नंबर 8) पर बल्लेबाजी करता हूं। मैंने नंबर-6 पर भी बल्लेबाजी की है। हम (रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जडेजा) विपक्षी टीम के गेंदबाजी आक्रमण के मुताबिक अपने नंबर बदलते रहते हैं। श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता में खेले गए पहले टेस्ट मैच में साहा एक पारी में नंबर सात और दूसरी पारी में नंबर आठ पर आए थे।साहा नंबर-6 पर बल्लेबाजी करते हैं लेकिन कोलकाता में दूसरी पारी में वह नंबर-8 पर उतरे थे जो आमतौर पर आज के दिनों में विकेटकीपर-बल्लेबाजों की जगह नहीं है। साहा ने कहा, "परिस्थति के हिसाब से बल्लेबाजी क्रम का पता चलता है कि नंबर छह, सात, आठ किस नंबर पर बल्लेबाजी करनी है। पहले मैच में भारत जीत के करीब आकर ड्रॉ के लिए मजबूर हो गया था। साहा का मानना है कि अगर भारत के पास कुछ और ओवर होते तो वह मैच जीत लेता। उन्होंने कहा, "हमने दूसरी पारी में अच्छी बल्लेबाजी की थी। शिखर धवन और लोकेश राहुल तथा विराट कोहली ने बल्ले से अच्छा योगदान दिया था। जब आप विपक्षी टीम के सात बल्लेबाज 100 के अंदर आउट कर लेते हो तो इससे आपका मनोबल बढ़ जाता है।"साहा ने कहा, "हो सकता है अगर हमारे पास कुछ और समय होता तो हम जीत सकते थे। हमने कोशिश की, लेकिन अगर शुरुआत के कुछ फैसले जल्दी हो जाते तो मैच की कहानी अलग हो सकती थी। हम पहले सुरक्षित स्थिति में पहुंचाना चाहते थे और एक ऐसा स्कोर खड़ा करना चाहते थे जो पहुंच से बाहर हो और फिर आक्रमण करना चाहते थे। यह हमारी रणनीति थी। गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया।"