सहारनपुर: हिंसा के बीच सीएम योगी ने DM-SSP को किया सस्पेंड

लखनऊ। सहारनपुर में भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही। राजनीतिक पार्टियां इस मौके को भुनाने में लगी हुई है। इस हिंसा के बाद जहां तमाम राजनीतिक पार्टियां सत्तारूढ़ बीजेपी को दोषी ठहरा रही है वहीं बीजेपी का कहना है कि बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने निजी स्वार्थ के लिए हिंसा को और भड़का दिया है। बता दें कि मायावती ने इस पूरी घटना के लिए आरएसएस और बीजेपी को जिम्मेदार बताया है। माया का मानना है कि बीजेपी और आरएसएस के जातिवादी तत्व सामाजिक भाईचारे को बिगाड़ने में जुटे हुए हैं। इसी बीच योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने एक्‍शन लेते हुए सहारनपुर के एसएसपी सुभाष चंद्र दुबे और डीएम एनपी सिंह को सस्‍पेंड कर दिया है। शहर में हुई ताजा हिंसा के बाद यूपी सरकार ने यह कार्रवाई की है।



यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंसा पर दुख जताते हुए दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया है। उन्होंने हिंसा की जांच वरिष्ठ अधिकारियों को सौंपी है। उन्होंने लोगों से संयम बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि ऐसे मुद्दे पर सियासत करना शर्मनाक है। सीएम के लाख प्रयासों के बावजूद भी बीएसपी इस मुद्दे पर टांग अड़ाने से बाज नहीं आ रही है। यही वजह है कि बीएसपी के चार पदाधिकारीआज शाम को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलेंगे। सभी नेता शाम करीब 6.30 बजे सीएम से मिलेंगे। इन नेताओं में सतीश मिश्र, राम अचल राजभर, लालजी वर्मा, पूर्व मंत्री इंदरजीत सरोज शामिल रहेंगे।



यूपी सरकार में मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि सहारनपुर में शांति स्थापित हुई थी, लेकिन मायावती अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने के लिए वहां गईं, जिसके बाद ही वहां पर माहौल बिगड़ा और हत्या हुई। श्रीकांत शर्मा बोले कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी, जहां पर भी लापरवाही हुई है।



मामले की गंभीरता को देखते हुए सीएम के निर्देश के बाद गृह सचिव मणिप्रसाद मिश्रा, एडीजी (कानून-व्यवस्था) आदित्य मिश्रा, आईजी (एसटीएफ) अमिताभ यश, डीआईजी विजय भूषण सहित आलाधिकारी सहारनपुर में डेरा जमाए हुए हैं। वहीं, राज्य सरकार ने मृतक के परिजनों को 15 लाख और घायलों को 50-50 हजार रुपये आर्थिक सहायता दिए जाने की घोषणा की है।