सहारा श्री की पैरोल 7 दिन बढ़ी, अगली सुनवाई 23 सितंबर को

नई दिल्ली। सहारा इंडिया परिवार के मुखिया सुब्रत रॉय सहारा को राहत पहुंचाते हुए सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को उनकी पैरोल अवधि को 7 दिनों के लिए बढ़ा दिया है। सहारा श्री की पैरोल 16 सितम्बर को समाप्त हो रही थी। जिसे बढ़वाने के लिए सहारा को सेबी के साझा खाते में 300 करोड़ का ड्राफ्ट जमा करवाना पड़ा है। सहारा श्री को मई में मां के निधन के बाद मानवीय आधार पर पैरोल मिली थी, जिसे बाद में निवेशकों का पैसा लौटाने के लिए प्रयास करने की दलील पर 16 सितम्बर तक बढ़ाया गया था।

मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट मुख्य न्यायाधीश टीएस ठाकुर व दो अन्य जजों वाली खंडपीठ मौजूद नहीं थी। ऐसे में एक अन्य अदालत के सामने पेश हुए सहारा श्री के वकील ने अदालत को बताया कि पूर्व में अदालत द्वारा निर्धारित 358 करोड़ का डिमांड ड्राफ्ट सेबी के साथ अपने साझा खाते में जमा करा दिया गया है। सहारा श्री के वकील के बयान को सेबी के वकील द्वारा विरोध न किए जाने पर अदालत ने सहारा श्री के पैरोल की अवधि को 7 दिन के लिए बढ़ा दिया है। जिस पर अन्तिम फैसला 23 सितंबर को मामले की सुनवाई कर रही मुख्य न्यायाधीश व अन्य दो जजों वाली विशेष खंडपीठ लेगी।




आपको बता दें कि इस साल मई माह में सहारा श्री की मां का स्वर्गवास हो जाने के कारण उन्हें सुप्रीम कोर्ट ने अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए 6 मई को पैरोल दी थी। सुब्रत के साथ उनके दामाद अशोक राय चौधरी को भी पैरोल पर रिहा किया गया था।