केन्द्र सरकार तीन तलाक की तरह राम मंदिर पर भी लाए अध्यादेश : साक्षी महाराज

mp sakshi maharaj
केन्द्र सरकार तीन तलाक की तरह राम मंदिर पर भी लाए अध्यादेश : साक्षी महाराज

उन्नाव। राम मंदिर निर्माण को लेकर जिस तरह साधू-संत अनशन कर रहे है। उससे ये मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में उन्नाव से भारतीय जनता पार्टी के सांसद ने सोमवार को कहा कि जिस तरह केन्द्र सरकार तीन तलाक पर अध्यादेश लेकर आई थी, उसी तरह राम मंदिर निर्माण के लिए भी सरकार को अध्यादेश लाना चाहिए। शनिवार को अपने आवास पर बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि राम मंदिर न बनने से साधू-संत और हिंदू समाज नाराज है। 5 अक्टूबर को दिल्ली में साधू समाज ने बैठक कर कड़ा संदेश भी दिया है।

Sakshi Maharaj Says That Goverment Shuld Bring Ordinance On Ram Temple As Tripal Talaq :

बैठक के दौरान बीजेपी सांसद ने सोशल साइट्स पर चल रहे उस बयान का खंडन किया जिसमें कहा गया कि यदि मंदिर न बना तो 2019 में वह पार्टी से बगावत कर देंगे। साक्षी महाराज ने कहा कि वो अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर राजनीति में आए हैं। मंदिर निर्माण का फैसला साधू-संतो और हिंदू समाज का है।

उन्होने कहा कि शुरुआत से ही साधु समाज और विश्व हिंदू परिषद राम मंदिर निर्माण के लिए संघर्षशील है, सभी का कहना था जो मंदिर निर्माण में साथ देगा उसी पार्टी की मदद करेंगे। सभी लोगों का कहना है कि भाजपा ने साथ देने का वादा किया था इसलिए सर्वसम्मति से केंद्र में सरकार बनाई गई थी।

उन्नाव। राम मंदिर निर्माण को लेकर जिस तरह साधू-संत अनशन कर रहे है। उससे ये मामला तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में उन्नाव से भारतीय जनता पार्टी के सांसद ने सोमवार को कहा कि जिस तरह केन्द्र सरकार तीन तलाक पर अध्यादेश लेकर आई थी, उसी तरह राम मंदिर निर्माण के लिए भी सरकार को अध्यादेश लाना चाहिए। शनिवार को अपने आवास पर बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि राम मंदिर न बनने से साधू-संत और हिंदू समाज नाराज है। 5 अक्टूबर को दिल्ली में साधू समाज ने बैठक कर कड़ा संदेश भी दिया है। बैठक के दौरान बीजेपी सांसद ने सोशल साइट्स पर चल रहे उस बयान का खंडन किया जिसमें कहा गया कि यदि मंदिर न बना तो 2019 में वह पार्टी से बगावत कर देंगे। साक्षी महाराज ने कहा कि वो अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर राजनीति में आए हैं। मंदिर निर्माण का फैसला साधू-संतो और हिंदू समाज का है। उन्होने कहा कि शुरुआत से ही साधु समाज और विश्व हिंदू परिषद राम मंदिर निर्माण के लिए संघर्षशील है, सभी का कहना था जो मंदिर निर्माण में साथ देगा उसी पार्टी की मदद करेंगे। सभी लोगों का कहना है कि भाजपा ने साथ देने का वादा किया था इसलिए सर्वसम्मति से केंद्र में सरकार बनाई गई थी।