1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. सलमान खान और रवीना टंडन जिस कंपनी के थे ब्रांड एम्बेस्डर, उस उद्योगपति की ऐसी हुई मौत

सलमान खान और रवीना टंडन जिस कंपनी के थे ब्रांड एम्बेस्डर, उस उद्योगपति की ऐसी हुई मौत

रोटोमैक ग्रुप (Rotomac Group) के मालिक विक्रम कोठारी (Vikram Kothari) की मंगलवार सुबह बाथरूम में फिसलने के बाद सिर पर गहरी चोट लगी है। इसके बाद निधन हो गया है। जिस वक्त हादसा हुआ है। उस समय विक्रम कोठारी (Vikram Kothari)  घर पर अकेले थे। उनकी पत्नी लखनऊ में बेटे के साथ थीं। विक्रम कोठारी (Vikram Kothari)  का एक बेटा और तीन बेटियां हैं। उनका जीवन काफी उतार चढ़ाव भरा रहा, जहां रोटोमैक की सफलता ने उन्हें बुलंदियों तक पहुंचाया है। वहीं बैंकों के 7800 करोड़ रुपये हड़पने के मामले में भी उनकी संलिप्तता रही।

By संतोष सिंह 
Updated Date

कानपुर। रोटोमैक ग्रुप (Rotomac Group) के मालिक विक्रम कोठारी (Vikram Kothari) की मंगलवार सुबह बाथरूम में फिसलने के बाद सिर पर गहरी चोट लगी है। इसके बाद निधन हो गया है। जिस वक्त हादसा हुआ है। उस समय विक्रम कोठारी (Vikram Kothari)  घर पर अकेले थे। उनकी पत्नी लखनऊ में बेटे के साथ थीं। विक्रम कोठारी (Vikram Kothari)  का एक बेटा और तीन बेटियां हैं। उनका जीवन काफी उतार चढ़ाव भरा रहा, जहां रोटोमैक की सफलता ने उन्हें बुलंदियों तक पहुंचाया है। वहीं बैंकों के 7800 करोड़ रुपये हड़पने के मामले में भी उनकी संलिप्तता रही।

पढ़ें :- Industry Lost Star Actor: अमिताभ- सलमान संग काम कर चुके अरुण वर्मा का निधन, कवि उदय दहिया ने दी जानकारी

तिलक नगर स्थित आवास संतुष्टि में उन्होंने आखिरी सांस ली है। विक्रम कोठारी (Vikram Kothari)  कई हजार करोड़ के बैंक फ्राड के आरोपी थे। दो साल जेल में रहने के बाद बीमार होने की वजह से जमानत पर बाहर थे। उनका बेटा राहुल कोठारी अभी भी जेल में है।

विक्रम कोठारी (Vikram Kothari)  90 के दशक में पेन किंग के नाम से कारोबार जगत में मशहूर थे। 38 देशों में रोटोमेक पेन का कारोबार उन्होंने फैलाया। उनके ब्रांड के दबदबे का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि सुपर स्टार सलमान खान (Salman Khan) और रवीना टंडन (Raveena Tandon ) रोटोमैक के ब्रांड एम्बेस्डर (Brand Ambassadors)  थे। दिग्गज अंतर्राष्ट्रीय पेन कंपनियों को उन्होंने बाहर का रास्ता दिखा दिया।

जानें कौन हैं विक्रम कोठारी?

उत्तर प्रदेश के कानपुर के रहने वाले विक्रम कोठारी ‘रोटोमैक ग्लोबल’ के सीएमडी थे। जो स्टेशनरी के व्यापार की नामी कंपनी है। विक्रम कोठरी ने ही साल 1992 में रोटोमैक ब्रांड शुरू किया था, जो भारत में एक नामी ब्रांड बना।

पढ़ें :- Bigg Boss 15: Devoleena ने Rakhi Sawant पर लगाया आरोप, सलमान को आई जेल के दिनों की याद

विक्रम कोठारी मशहूर उद्योगपति मनसुख भाई कोठारी के बेटे थे। जिन्होंने ‘पान पराग’ नाम के गुटखा ब्रांड की शुरुआत की थी। मनसुख भाई के बाद उनके पुत्र विक्रम ने यह काम संभाला। पान पराग की मार्केटिंग के कारण विक्रम कोठारी को कई अवॉर्ड्स मिले, साथ ही कानपुर के गुटखा किंग का टाइटल भी उन्हें पान पराग के कारण ही मिला।

प्रॉपर्टी में विवाद के बाद विक्रम और उनके भाई दीपक कोठारी के बीच बंटवारा हो गया था। जिसमें 1973 में बने पान पराग गुटखा को सफलतम ऊंचाईयों तक पहुंचाने के बाद को यह ब्रांड विक्रम कोठारी के भाई दीपक कोठारी के हिस्से में चला गया था। जबकि विक्रम कोठारी के हिस्से में स्टेशनरी का व्यापार आ गया। साल 1983 में सामाजिक कार्यों में अहम योगदान के कारण लायन्स क्लब ने गुडविल एंबेसडर बनाया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...