19 वर्षीय लड़की को 18 लोगों के साथ बनाना पड़ा शारीरिक संबंध, ये थी वजह

rape
19 वर्षीय लड़की को 18 लोगों के साथ बनाना पड़ा शारीरिक संबंध, ये थी वजह

नई दिल्ली। ब्रिटेन की एक 19 वर्षीय लड़की सारा ने अपनी दर्दभरी आत्मकथा ‘स्लेव गर्ल’में साझा करते हुए लिखा कि एम्सटर्डम नर्स की जॉब पाने के लिए उसका पासपोर्ट चोरी हो गया और उसके बाद शुरू हुआ उसके साथ भयानक खेल। सारा ने लिखा है कि इसके बाद उसे 18 मर्दों के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर किया गया। जब यह पूरा घटनाक्रम सारा के साथ हुआ तब उनकी उम्र 19 साल की थी, अब सारा 42 साल की हो गयी हैं।

Salve Girl Story Of A British Woman :

सारा ने लिखा है कि वो नौकरी का विज्ञापन देखकर एम्सटर्डम पहुंची थी। इस विज्ञापन को एक ब्रिटिश अपराधी जॉन रीसी ने प्रकाशित करवाया था। सारा को धोखे से एम्सटर्डम बुलाया गया। सारा ने लिखा, “मैं अक्सर उसे अपने सपने में देखती हूं।” सारा के मुताबिक, ‘जिस वक्त मैं प्लेन से उतरी और अराइवल हॉल पहुंची, मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा। मेरे मन से आवाज आ रही थी, यह मत करो।’ एयरपोर्ट पर जॉन उनसेे मिला और फिर बंदूक की नोक पर अगवा कर लिया और शहर के रेड लाइट इलाके में 20-20 लोगों के साथ सोने के लिए मजबूर किया गया।

सारा के मुताबिक, उनके लिए वह किसी बुरे सपने से कम नहीं था, जब उसे थाइलैंड की एक लड़की की हत्या देखनी पड़ी। उसकी हत्या इसलिए की गई थी क्योंकि वह अपने मालकिन को देह व्यापार से पैसे कमाकर नहीं दे पाई थी। उस लड़की की हत्या का विडियो बनाया गया और सारा को देखने के लिए मजबूर किया गया।

सारा ने अपनी दर्दभरी कहानी साझा करते हुए कहा कि उन्हें एक दिन में 18 लोगों के साथ सोने के लिए मजबूर किया जाता था। वह दर्द भुलाने के लिए कोकीन का सेवन करती थी। आखिरकार सारा 1997 में ह्युमन ट्रैफिकर के चंगुल से भाग निकली। उन्हें बेल्जियम के सेफ हाउस ले जाया गया, फिर सालों बाद वह अपनी मां से मिलीं। इसके बाद सारा ने अपहरणकर्ताओं के खिलाफ सूबत दिए और पांच लोगों को हॉलैंड की कोर्ट ने दोषी करार दिया।

नई दिल्ली। ब्रिटेन की एक 19 वर्षीय लड़की सारा ने अपनी दर्दभरी आत्मकथा 'स्लेव गर्ल'में साझा करते हुए लिखा कि एम्सटर्डम नर्स की जॉब पाने के लिए उसका पासपोर्ट चोरी हो गया और उसके बाद शुरू हुआ उसके साथ भयानक खेल। सारा ने लिखा है कि इसके बाद उसे 18 मर्दों के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर किया गया। जब यह पूरा घटनाक्रम सारा के साथ हुआ तब उनकी उम्र 19 साल की थी, अब सारा 42 साल की हो गयी हैं। सारा ने लिखा है कि वो नौकरी का विज्ञापन देखकर एम्सटर्डम पहुंची थी। इस विज्ञापन को एक ब्रिटिश अपराधी जॉन रीसी ने प्रकाशित करवाया था। सारा को धोखे से एम्सटर्डम बुलाया गया। सारा ने लिखा, "मैं अक्सर उसे अपने सपने में देखती हूं।" सारा के मुताबिक, 'जिस वक्त मैं प्लेन से उतरी और अराइवल हॉल पहुंची, मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा। मेरे मन से आवाज आ रही थी, यह मत करो।' एयरपोर्ट पर जॉन उनसेे मिला और फिर बंदूक की नोक पर अगवा कर लिया और शहर के रेड लाइट इलाके में 20-20 लोगों के साथ सोने के लिए मजबूर किया गया। सारा के मुताबिक, उनके लिए वह किसी बुरे सपने से कम नहीं था, जब उसे थाइलैंड की एक लड़की की हत्या देखनी पड़ी। उसकी हत्या इसलिए की गई थी क्योंकि वह अपने मालकिन को देह व्यापार से पैसे कमाकर नहीं दे पाई थी। उस लड़की की हत्या का विडियो बनाया गया और सारा को देखने के लिए मजबूर किया गया। सारा ने अपनी दर्दभरी कहानी साझा करते हुए कहा कि उन्हें एक दिन में 18 लोगों के साथ सोने के लिए मजबूर किया जाता था। वह दर्द भुलाने के लिए कोकीन का सेवन करती थी। आखिरकार सारा 1997 में ह्युमन ट्रैफिकर के चंगुल से भाग निकली। उन्हें बेल्जियम के सेफ हाउस ले जाया गया, फिर सालों बाद वह अपनी मां से मिलीं। इसके बाद सारा ने अपहरणकर्ताओं के खिलाफ सूबत दिए और पांच लोगों को हॉलैंड की कोर्ट ने दोषी करार दिया।