1984 सिख दंगे पर बयान देकर घिरे सैम पित्रोदा, बीजेपी भड़की, दिल्ली में चल रहा प्रदर्शन

sam
1984 सिख दंगे पर बयान देकर घिरे सैम पित्रोदा, बीजेपी पर बयान को गलत तरीके से पेश करने का आरोप

नई दिल्ली। इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा 1984 सिख दंगे पर बयान देकर घिर गये हैं। सैम पित्रोदा के बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और उन पर हमलावार है। सैम पित्रोदा जब बीजेपी पर हमला बोल रहे थे तो 1984 के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि ’84 में हुआ तो हुआ..’। इस पर बीजेपी ने आपत्ति जताते हुए सैम पित्रोदा से माफी मांगने की मांग कर रही है। बीजेपी आज दिल्ली में सैम पित्रोदा के खिलाफ प्रदर्शन भी कर रही है।

Sam Pitroda Is On Back Foot After Bjp Attacks Over 1984 Sikh Riots :

सैम पित्रोदा ने एक के बाद एक ट्​वीट कर अपने बयान पर सफाई दी है। उन्होंने कहा कि मैं अपने सिख भाइयों-बहनों का दर्द समझता हूं। मैं समझता हूं कि 1984 में उन्हें काफी दर्द झेलना पड़ा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बीजेपी मेरे बयान को गलत तरीके से लोगां के बीच पेश कर रही है। बीजेपी वास्तविकता से दूरा भाग रही है। हमे बांटकर अपनी नाकामियां छुपाने में जुटी है।

सैम पित्रोदा ने कहा कि बीजेपी के पास कुछ बताने के लिए नहीं है, जिसके कारण वह इस तरह का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी और राहुल गांधी ने कभी भी किसी जाति-पंथ के आधार पर लोगों को बांटकर टारगेट नहीं किया है। ऐसा करना भाजपा के नेताओं की आदत रही है। गौरतलब है कि पीएम मोदी दिल्ली के रामलीला मैदान में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस के लोग अपने पूर्वजों के नाम पर वोट मांग रहे हैं।

लेकिन जब उन्हीं के कारनामे खंगाले जाते हैं तो इन्हें मिर्च लग जाती है। कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि 1984 के सिख दंगों का हिसाब कौन देगा? वहीं इस पर सैम पित्रोदा ने कहा कि अब क्या है 84 का? आपने (मोदी) क्या किया है पांच साल में, उसकी बात करिए। 84 में हुआ तो हुआ, आपने क्या किया? आपको रोजगार पैदा करने के लिए वोट दिया गया था, 200 स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वोट मिले थे, आपने वो भी नहीं किया। वहीं सैम पित्रोदा के इस बयान के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रकाश जावड़ेकर ने माफी मांगने की मांग की है।

नई दिल्ली। इंडियन ओवरसीज कांग्रेस के अध्यक्ष सैम पित्रोदा 1984 सिख दंगे पर बयान देकर घिर गये हैं। सैम पित्रोदा के बयान के बाद भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और उन पर हमलावार है। सैम पित्रोदा जब बीजेपी पर हमला बोल रहे थे तो 1984 के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि '84 में हुआ तो हुआ..'। इस पर बीजेपी ने आपत्ति जताते हुए सैम पित्रोदा से माफी मांगने की मांग कर रही है। बीजेपी आज दिल्ली में सैम पित्रोदा के खिलाफ प्रदर्शन भी कर रही है। सैम पित्रोदा ने एक के बाद एक ट्​वीट कर अपने बयान पर सफाई दी है। उन्होंने कहा कि मैं अपने सिख भाइयों-बहनों का दर्द समझता हूं। मैं समझता हूं कि 1984 में उन्हें काफी दर्द झेलना पड़ा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बीजेपी मेरे बयान को गलत तरीके से लोगां के बीच पेश कर रही है। बीजेपी वास्तविकता से दूरा भाग रही है। हमे बांटकर अपनी नाकामियां छुपाने में जुटी है। सैम पित्रोदा ने कहा कि बीजेपी के पास कुछ बताने के लिए नहीं है, जिसके कारण वह इस तरह का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी और राहुल गांधी ने कभी भी किसी जाति-पंथ के आधार पर लोगों को बांटकर टारगेट नहीं किया है। ऐसा करना भाजपा के नेताओं की आदत रही है। गौरतलब है कि पीएम मोदी दिल्ली के रामलीला मैदान में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस के लोग अपने पूर्वजों के नाम पर वोट मांग रहे हैं। लेकिन जब उन्हीं के कारनामे खंगाले जाते हैं तो इन्हें मिर्च लग जाती है। कांग्रेस को बताना पड़ेगा कि 1984 के सिख दंगों का हिसाब कौन देगा? वहीं इस पर सैम पित्रोदा ने कहा कि अब क्या है 84 का? आपने (मोदी) क्या किया है पांच साल में, उसकी बात करिए। 84 में हुआ तो हुआ, आपने क्या किया? आपको रोजगार पैदा करने के लिए वोट दिया गया था, 200 स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वोट मिले थे, आपने वो भी नहीं किया। वहीं सैम पित्रोदा के इस बयान के बाद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और प्रकाश जावड़ेकर ने माफी मांगने की मांग की है।