अमर सिंह होंगे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने आज बड़ा फैसला लेते हुए अमर सिंह को पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव नियुक्त किया है। इससे पहले प्रो. राम गोपाल यादव समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव थे। अभी हाल ही में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह ने कहा था कि आगामी विधानसभा चुनाव में टिकट बंटवारे को लेकर फैसला वह खुद करेंगे, ना तो शिवपाल सिंह और ना ही अखिलेश यादव इसका फैसला लेंगे। उन्होंने कहा कि अगर अखिलेश और शिवपाल का कोई सुझाव या राय होगी तो उसे शामिल किया जाएगा। कहा जा रहा था कि अखिलेश यादव ने शुक्रवार को हुई मीटिंग में भी टिकट बंटवारे में तरजीह देने की बात सपा सुप्रीमो के सामने उठाई थी।




गत शुक्रवार को मुलायम सिंह ने दोनों नेताओं के बीच सुलाह करवाने के बाद कार्यकर्ताओं से कहा था कि उनका फैसला नहीं बदलेगा और शिवपाल यादव ही समाजवादी पार्टी की उत्तर प्रदेश ईकाई के अध्यक्ष रहेंगे। उन्होंने कहा कि अगर वो (अखिलेश यादव) मेरे बेटे नहीं होते तो कोई उन्हें स्वीकार नहीं करता। मैंने और शिवपाल ने उस समय पार्टी को खड़ा किया जब अखिलेश स्कूल जाया करते थे।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच तनातनी चल रही थी। दोनों नेताओं के बीच मुख्तार अंसारी की पार्टी का सपा में विलय किए जाने के बाद से विवाद शुरू हुआ। अखिलेश इस विलय के खिलाफ थे। बाद में विलय को रद्द कर दिया गया। कहा जा रहा था कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव की इच्छा से विलय के प्रक्रिया को पूरा किया गया था। हाल ही में खनन मुद्दे पर घिरी यूपी सरकार ने मंत्री गायत्री प्रजापति को पद से हटा दिया था। उसके अगले दिन मुख्य सचिव दीपक सिंघल को भी हटा दिया गया। दोनों ही शिवपाल सिंह के करीबी बताए जाते हैं। इससे नाराज सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह ने अखिलेश की जगह शिवपाल को उत्‍तर प्रदेश समाजवादी पार्टी का अध्‍यक्ष बना दिया था। इसके बाद अखिलेश ने शिवपाल से मंत्री पद वापस ले लिए थे। बाद में मुलायम सिंह के दखल के बाद अखिलेश को फैसला वापस लेना पड़ा।



पार्टी के सक्रिय सूत्रों की माने तो उनका कहना है कि अमर सिंह की वासपी से मोहम्मद आजम खान खासे नाराज है। अभी हाल ही में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता मोहम्मद आजम ने अमर सिंह पर कहा कि इतिहास तो उनका ऐसा ही है। चोर की दाढ़ी में तिनका है। बेइज्जती उसकी होती है जिसकी होती है जिसकी इज्जत होती है। उन्होंने कहा कि इज्जत बनाने के लिए एक जीवन चाहिए। सड़क पर पड़ी हुई इज्जत जिन लोगों को मिल जाए वह इज्जत नहीं होती। अखिलेश के ‘बाहरी व्यक्ति’ के बयान पर कहा कि वह ‘बाहरी व्यक्ति’ चोर है। आप लोग अमर सिंह को इतना महत्व क्यों दे रहे हो? इस घमासान में पार्टी को नुकसान पर कहा कि पार्टी को कोई नुकसान नहीं है। प्रदेश में सपा की सरकार बन रही है।