अखिलेश यादव बने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, शिवपाल की छुट्टी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजनीति में नया वर्ष नई गरमी लेकर आया है। रविवार को समाजवादी पार्टी की ओर से बुलाए गए विशेष राष्ट्रीय अधिवेशन में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने और शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाने के साथ अमर सिंह को पार्टी से निष्कासित करने के प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पास किया गया। इसके साथ ही मुलायम सिंह यादव को पार्टी का संरक्षक बनाया गया है।




सपा के विशेष अधिवेशन का संचालन कर रहे पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने तमाम पार्टी कार्यकर्ताओं के सामने तीन प्रस्तावों को रखते हुए उनके पास होने की घोषणा की। करीब दस मिनट चली प्रस्तावों को पास करवाने की प्रक्रिया के बाद अखिलेश यादव को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया गया।

हालांकि इस बीच ऐसी खबरें भी सामने आईं कि पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने इस अधिवेशन को असंवैधानिक घोषित करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं को कार्यक्रम में शामिल न होने की हिदायत दी है। इसके बावजूद कार्यकर्ता अधिवेशन में शामिल हुए।




इस मौके पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि पार्टी के भीतर कुछ लोग थे जो नहीं चाहते थे कि समाजवादी पार्टी की सरकार दोबारा बने। ये लोग पार्टी के भीतर ही रह कर साजिश कर रहे थे। नेता जी यानी उनके पिता का फायदा उठा कर मानमाने तरीके से फैसले लिए जा रहे थे।

सीएम अखिलेश यादव ने कहा कि वे अपने पिता का जितना सम्मान करते हैं वह करते रहेंगे। उनके पिता ने उन्हें जो जिम्मेदारी सौंपी है वह उसे पूरी तरह से निभाते आए हैं और आगे भी निभाते रहेंगे। 2012 में उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था, फिर मुख्यमंत्री। उन्होंने राजनीतिक जिम्मेदारियों को पूरी तरह से निभाया है। आगे चाहे नेता जी की पार्टी को बचाने की जिम्मेदारी हो या परिवार को बचाने की जिम्मेदारी वह उसे भी पूरी तरह से निभाएंगे। पिता पुत्र के रिश्ते को कोई नहीं बदल सकता।

Loading...