सपा का संकट वंशवादी राजनीति का परिणाम : वेंकैया

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने मंगलवार को कहा कि उत्तरप्रदेश में सत्तारूढ समाजवादी पार्टी का पारिवारिक कलह ‘‘वंशवाद’ की राजनीति का परिणाम है। भाजपा की इस पर टिप्पणी करने में कोई रूचि नहीं है। वेंकैया नायडू ने सीआईआई के एक कार्यक्र म से इतर संवाददाताओं से कहा, मुझे कोई टिप्पणी नहीं करनी है। यह आंतरिक समस्या है। जैसा कि मैं हमेशा से कहता रहा हूं कि लोकतंत्र में वंशवाद घातक होता है लेकिन कुछ लोगों के लिए रूचिकर भी होता है। हम इसका परिणाम भी देख रहे हैं।




उन्होंने कहा, इसके साथ ही हम इस विषय पर और सपा में जो कुछ हो रहा है, उसपर न कुछ कहना चाहते हैं और न ही कुछ करना चाहते हैं। जो कुछ भी हो रहा है, उसे लोग देख रहे हैं। वे इस बात पर निर्णय करेंगे कि उन्हें क्या करना है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उत्तरप्रदेश ऐसे समय में पिछड़ रहा है तब देश आगे की ओर बढ़ रहा है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि उत्तरप्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए आसन्न विधानसभा चुनाव में भाजपा को समर्थन दें। उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री ने कल कहा था कि उत्तरप्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाना है।




ऐसा केवल भाजपा ही कर सकती है। उत्तरप्रदेश जैसा बड़ा राज्य विकास में पिछड़ रहा है। यह देश के लिए अच्छा नहीं है। देश आगे बढ़ रहा है और उत्तरप्रदेश पिछड़ रहा है। इसलिए लोगों को आगामी चुनाव में भाजपा का समर्थन करने की जरूरत है। तीन तलाक के मुद्दे पर वेंकैया ने कहा कि सरकार और भाजपा तीन तलाक को खत्म करने के पूरी तरह से पक्ष में है क्योंकि यह महिलाओं के साथ भेदभाव और समानता के संवैधानिक अधिकार के खिलाफ है। उन्होंने कहा, महिलाओं के खिलाफ सभी तरह का भेदभाव समाप्त होना चाहिए। लिंग के आधार पर भेदभाव क्यों हो और तीन तलाक लैंगिक भेदभाव है। संविधान के खिलाफ है। सरकार और भाजपा तीन तलाक को खत्म करने के पूरी तरह से पक्ष में है।