बकरी को राष्ट्रीय बहन बनाने की मांग उठाकर फंसे आप नेता संजय सिंह

Sanjay Singh
आप नेता संजय सिंह
नई दिल्ली। गौरक्षा को लेकर छिड़ी बहस के बीच एक बड़ा तबका गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग कर रहा है। राजनीतिक नजरिए से गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने की मांग करने वालों को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और विश्व​ हिन्दू परिषद् की विचारधारा से प्रेरित बताकर बीजेपी से जोड़ा जाता है। इसी नजरिए के साथ आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने गुरुवार को एक ट्वीट कर बकरी को राष्ट्रीय बहन घोषित करने की बात कह…

नई दिल्ली। गौरक्षा को लेकर छिड़ी बहस के बीच एक बड़ा तबका गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की मांग कर रहा है। राजनीतिक नजरिए से गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने की मांग करने वालों को राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और विश्व​ हिन्दू परिषद् की विचारधारा से प्रेरित बताकर बीजेपी से जोड़ा जाता है। इसी नजरिए के साथ आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने गुरुवार को एक ट्वीट कर बकरी को राष्ट्रीय बहन घोषित करने की बात कह डाली। निश्चित तौर पर उनके निशाने पर गाय को लेकर राजनीति करने वाले लोग थे, लेकिन उन्होंने जो बात कही उसकी प्रतिक्रियाएं किसी मुंह तोड़ जवाब से कम नहीं थीं।



{ यह भी पढ़ें:- पत्नी और बहन में जो फर्क, वहीँ गाय और बकरी के मीट में: गिरिराज }

संजय सिंह ने अपने ट्वीट में बकरी की फोटो लगाते हुए लिखा था कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने कहा था कि बकरी का दूध स्वास्थ्यवर्धक और ज्ञानवर्धक होता है। इसलिए बकरी को राष्ट्रीय बहन घोषित कर देना चाहिए। निश्चित ही संजय सिंह अपने ट्वीट के माध्यम से उन लोगों की मजाक उड़ाना चाह रहे थे लेकिन वह शब्दों के चयन में गलती कर गए। जिसका खामियाजा उन्हें अपने ट्वीट पर आई प्रतिक्रियाओं के रूप में झेलना पड़ा।




संजय सिंह को सबसे कड़ी प्रतिक्रिया मिली तजिंदर बग्गा की ओर से जिन्होंने संजय को भाई संबोधित करते हुए लिखा, माफ करना संजय भाई लेकिन बहन का दूध नहीं पीते, आपके संस्कारों में खोट है।


इसके अलावा भी संजय के इस ट्वीट पर हजारों कड़वी प्रतिक्रियाएं आईं हैं। जिनमें लोगों ने उन्हें भाई बहन के रिश्ते की गरिमा के बारे में बताया है।

Loading...