मजीठिया को जेल भिजवा कर ही दम लूंगा : संजय सिंह

मजीठिया को जेल भिजवा कर ही दम लूंगा : संजय सिंह
मजीठिया को जेल भिजवा कर ही दम लूंगा : संजय सिंह
लखनऊ। आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह ने शनिवार को कहा कि वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के माफीनामे के बावजूद पंजाब के पूर्व मंत्री विक्रम सिंह मजीठिया द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि के मामले का सामना करेंगे। केजरीवाल, सिंह ने आरोप लगाया था कि मजीठिया ड्रग्स व्यापार के धंधे में संलिप्त हैं। केजरीवाल के माफीनामे पर टिप्पणी करने से इंकार करते हुए सिंह ने कहा, "मैं उस पर अडिग हूं जो भी मैंने पहले कहा था। मैं अपने आरोपों पर…

लखनऊ। आम आदमी पार्टी नेता संजय सिंह ने शनिवार को कहा कि वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के माफीनामे के बावजूद पंजाब के पूर्व मंत्री विक्रम सिंह मजीठिया द्वारा उनके खिलाफ दायर मानहानि के मामले का सामना करेंगे। केजरीवाल, सिंह ने आरोप लगाया था कि मजीठिया ड्रग्स व्यापार के धंधे में संलिप्त हैं।

केजरीवाल के माफीनामे पर टिप्पणी करने से इंकार करते हुए सिंह ने कहा, “मैं उस पर अडिग हूं जो भी मैंने पहले कहा था। मैं अपने आरोपों पर अडिग हूं।” आप सांसद ने इस मामले में उठे विवाद पर बोलने से इंकार कर दिया जिसमें केजरीवाल के माफीनामे के बाद पंजाब इकाई के राज्य प्रमुख भगवंत मान व एक अन्य ने इस्तीफा दे दिया।

{ यह भी पढ़ें:- कुमार का केजरीवाल पर तंज़- 'मैं तो आपका भाई हूं, शहीदों के शव से छेड़छाड़ नहीं की जाती' }

अब वह अपने इस बयान से एक कदम आगे निकल चुके हैं। उन्‍होंने कहा कि ‘मैं विक्रम मजीठिया को कभी माफ नहीं कर सकता।’ उन्‍होंने कहा कि हम इस मामले पर अंत तक लड़ेंगे और विक्रम मजीठिया को जेल भिजवा कर ही दम लेंगे। उनके इस बयान से आम आदमी पार्टी के अंदर सियासत और तेज हो गई है।

संजय सिंह ने कहा, “मैं इस पर टिप्पणी नहीं करूंगा। मैंने इस मामले में खुद की स्थिति स्पष्ट कर दी है जिसमें मेरे साथ अरविंद केजरीवाल व आशीष खेतान के खिलाफ मानहानि का दावा किया गया था।” राज्यसभा के लिए हाल में ही चुने जाने पर अपने अनुभवों के बारे में उन्होंने कहा कि राज्यसभा में समुतिच बहस नहीं हो रही है और न ही सत्ता पक्ष ‘विपक्षी सदस्यों की राय जानने और सुनने के लिए तैयार है’।

{ यह भी पढ़ें:- कुमार पर पार्टी को विश्वास नहीं, राज्यसभा की 2 सीटों के लिए इन बाहरियों का नाम तय }

उन्होंने लोकसभा में वित्त विधेयक के पास होने पर इशारा करते हुए कहा, “संसद बहस के लिए होती है, जहां हम सांसदों को लोगों की समस्याओं और देश की स्थिति के बारे में बोलने देना चाहिए, दुर्भाग्य से यह नहीं हो रहा है।”

Loading...