1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. जानिए, कब है संकष्टी चतुर्थी का त्योहार और क्या है इसका महत्व?

जानिए, कब है संकष्टी चतुर्थी का त्योहार और क्या है इसका महत्व?

By आस्था सिंह 
Updated Date

लखनऊ। सकट चौथ 2019 यानि संकष्टी चतुर्थी का त्योहार इस बार 24 जनवरी को पड़ रहा है। सकट चौथ के दिन गणपति भगवान की पूजा की जाती है और इस दिन सच्चे मन से भगवान की आराधना करने से गणपती आपकी सभी मनोकामना पूर्ण करते हैं। बता दें कि सकट चौथ का व्रत विशेष तौर पर संतान की दीर्घायु और सुखद भविष्य की कामना के लिए रखा जाता है।

संकष्टी चतुर्थी का महत्व

सकट चौथ का त्योहार माघ महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि पर मनाया जाता है। मान्यता है कि सकट चौथ के व्रत से संतान की सारी बाधाएं दूर होती हैं। इस दिन भगवान गणेश और चंद्रमा की पूजा करने से सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। सकट चौथ को संकष्टी चतुर्थी, वक्रकुंडी चतुर्थी, तिलकुटा चौथ के नाम से भी जाना जाता है।

ऐसे पड़ा इस दिन का नाम

इसी दिन भगवान गणेश अपने जीवन के सबसे बड़े संकट से निकलकर आए थे इसीलिए इसे सकट चौथ कहा जाता है। बताया जाता है कि एक बार मां पार्वती स्नान कर रही थीं तो उन्होंने दरबार पर गणेश को खड़ा कर दिया और किसी को अंदर नहीं आने देने के लिए कहा। जब भगवान शिव आए तो गणपति ने उन्हें अंदर आने से रोक दिया इसपर भगवान शिव को गुस्सा आ गया और उन्होंने अपने त्रिशूल से गणेश का सिर धड़ से अलग कर दिया। पुत्र का यह हाल देख मां पार्वती विलाप करने लगीं और अपने पुत्र को जीवित करने की जिद करने लगीं।

मां पार्वती के बहुत अनुरोध करने पर भगवान शिव ने गणेश जी को हाथी का सिर लगाकर दूसरा जीवन दिया और इसके बाद से ही गणेश गजानन कहलाए जाने लगे। इसी दिन से भगवान गणपति को प्रथम पूज्य होने का गौरव भी हासिल हुआ। सकट चौथ के दिन ही भगवान गणेश को 33 करोड़ देवी-देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त हुआ, तभी से यह तिथि गणपति पूजन की तिथि बन गई। कहा जाता है कि इस दिन गणपति किसी को खाली हाथ नहीं जाने देते हैं।

संकष्टी चतुर्थी तिथि

इस बार संकष्टी चतुर्थी 23 जनवरी को 23.59 पर शुरू हो जाएगी और 24 जनवरी को 20.53 बजे तक रहेगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...