सत्ता के नशे में चूर इस BJP विधायक ने टोल प्लाजा पर जमकर काटा बवाल

Sata Ke Nashe Me Chur Is Bjp Vidhayak Ne Til Plaza Par Jamakar Kata Bawal

लखनऊ। सत्ता के नशे में नेता इतने चूर हो जाते है कि उन्हे सही गलत में फर्क तक समझ नहीं आता। पिछली सपा सरकार में भी ऐसे ही नेताओं ने पार्टी की छवि को धूमिल किया था। अब वहीं रवैया सत्तासीन बीजेपी के विधायक और मंत्री अपना रहे है। सीएम बनाने के बार योगी ने पार्टी के नेताओं को लगातार नसीहत देते रहते है कि अराजकता बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी लेकिन इन बातों से पार्टी के ही मंत्री, विधायक के कान पर जू तक नहीं रेंगता। इसका ताजा उदाहरण है बीजेपी विधायक राकेश राठौड़। जिनका फतेहगंज टोल प्लाजा पर गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। विधायक पर आरोप है कि उन्होने पहले गुंडागर्दी की और पैसे मांगने पर कर्मचारियों के साथ मारा और धमकाया भी।




दरअसल यह मामला फतेहगंज टोल प्लाजा का है जहां पर बीजेपी विधायक राकेश राठौड़ ने एक टोल प्लाजा कर्मचारी के साथ बदसलूकी करते हुए उसे थप्पड़ जड़ दिया। बता दें कि राकेश राठौड़ सितापुर से विधायक है। यह घटना सीसीटीवी में कैद हुई, जिसके बाद इसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया। बताया जा रहा है कि राकेश राठौड़ अपने समर्थकों के साथ टोल प्लाजा की तरफ से गुजर रहे थे कि तभी टोल कर्मचीरी ने उन्हें टोल देने के लिए रोका। राकेश के समर्थक टोल देने से मना करते रहे लेकिन बिना पैसे दिए कर्मचारी उन्हें निकलने नहीं दे रहा था।




इससे विधायक का गुस्सा इतना भड़क गया कि उसने टोल कर्मचारी को थप्पड़ मार दिया और वहां से बिना टोल दिए ही निकल गए। इस मामले की अभी तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है। वहीं इस मामले पर राकेश राठौड़ का कहना है कि मैंने कर्मचारी को थप्पड़ नहीं मारा केवल धक्का दिया था। उन्होंने कहा कि मैंने कर्मचारी को धक्का इसलिए दिया क्योंकि उसने मेरे साथ बदतमीजी की थी।




खास बात यहा है कि बीजेपी विधायक द्वारा की यह गुंड़ागर्दी उस समय सामने आई है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में वीवीआईपी कल्चर को खत्म करने की बात कही गई। इससे पहले भी बीजेपी विधायक सुरेश गौड़ा द्वारा टोल प्लाजा कर्मचारी को थप्पड़ मारने का मामला सामने आया था।

लखनऊ। सत्ता के नशे में नेता इतने चूर हो जाते है कि उन्हे सही गलत में फर्क तक समझ नहीं आता। पिछली सपा सरकार में भी ऐसे ही नेताओं ने पार्टी की छवि को धूमिल किया था। अब वहीं रवैया सत्तासीन बीजेपी के विधायक और मंत्री अपना रहे है। सीएम बनाने के बार योगी ने पार्टी के नेताओं को लगातार नसीहत देते रहते है कि अराजकता बिल्कुल बर्दाश्त नहीं की जाएगी लेकिन इन बातों से पार्टी के ही मंत्री, विधायक…