भारत के संचार उपग्रह जीसैट-18 का सफल प्रक्षेपण, मोदी ने दी बधाई

चेन्नई| भारत के संचार उपग्रह जीसैट-18 का गुरुवार तड़के सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया गया। इसे फ्रेंच गुयाना के कारू से प्रक्षेपित किया गया। इसे फ्रांस की कंपनी ‘एरियनस्पेस’ के एरियन 5 के प्रक्षेपण यान से प्रक्षेपित किया गया। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) के मुताबिक, कर्नाटक के हासन में इसकी मास्टर कंट्रोल फैसिलिटी (एमसीएफ) ने जीसैट-18 का दारोमदार संभाला।




इसरो के मुताबिक, उपग्रह को भूस्थिर कक्षा में स्थापित किया गया। जीसैट-18 देश का नवीनतम संचार उपग्रह है। इसमें 48 ट्रांसपोंडर्स हैं जो संचार सिग्नलों को भेजते और प्राप्त करते हैं। यह 3,404 किलोग्राम का उपग्रह सामान्य सी-बैंड, विस्तृत सी-बैंड और कू-बैंड्स पर सेवाएं देगा। ‘एरियनस्पेस’ के अध्यक्ष स्टीफन इजरायल ने जारी बयान में कहा, एरियनए5 ने इस साल पांचवी बार बेहतरीन काम किया है और यह लगातार 74वीं सफलता है।

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के संचार उपग्रह जीसैट-18 के सफल प्रक्षेपण के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) के वैज्ञानिकों को बधाई दी। मोदी ने इसे हमारे अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक और मील का पत्थर बताया। मोदी ने ट्वीट कर कहा, “संचार उपग्रह जीसैट-18 के सफल प्रक्षेपण के लिए इसरो को बधाई। यह हमारे अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक और मील का पत्थर है।”