शनि की उल्टी चाल 3 राशियों की बढ़ाएगी मुसीबत, 29 सितंबर तक रहना होगा सतर्क

shani-dev

नई दिल्ली: शनि देव 11 मई 2020 को मार्गी से वक्री हो गए हैं. यानी इस तिथि के बाद शनि की उल्टी चाल शुरू हो गई है. शनि अपने पिता सूर्य के नक्षत्र उत्तराशाढा के चौथे चरण और अपनी ही राशि मकर में वक्री हो गए. मिथुन, कर्क और कुंभ राशि के लिए शनि की यह उल्टी चाल बेहद अशुभ संकेत दे रही है. शनि की उल्टी चाल 29 सितंबर तक यानी 142 दिन यूं ही बरकरार रहेगी. आइए जानते हैं शनि के वक्री होने पर सभी 12 राशियों पर कैसा असर पड़ेगा.

Saturns Reverse Move Will Increase Trouble By 3 Zodiac Signs To Be Cautious Till September 29 :

मेष- शनि देव मेष राशि के 10वें घर में मौजूद हैं. कुंडली में 10वां घर करियर को होता है. यानी इस दौरान शनि आपके करियर में चार चांद लगा सकता है. शनि की उल्टी चाल शुरू होने के बाद अगस्त के आस-पास प्रमोशन के अवसर बन सकते हैं. वरिष्ठ सहयोगी आपके काम से खुश रहेंगे. हालांकि मई, जून और जुलाई के महीने में थोड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है.

वृषभ- वक्री शनि वृषभ राशि के 9वें घर में होंगे. 9वें घर में बैठा शनि हमेशा परेशानी की वजह बनता है. हालांकि पिता या बड़े-बुजुर्गों की सेवा करने से वक्री शनि उल्टा लाभ दे सकता है. पैतृक संपत्ति में लाभ मिलता है. धन, व्यापार और नौकरी के मामले में भी फायदा पहुंचाता है. पैतृक आशीर्वाद से आपकी सेहत भी अच्छी रहती है.

मिथुन- मिथुन राशि वालों के 8वें भाव में शनि वक्री होंगे. यहां स्थिति थोड़ी खराब हो सकती है. सड़क पर वाहन और कोर्ट कचहरी के मामले में बेहद सावधानी बरतनी होगी. करीब 4 महीने ससुराल पक्ष में भी संकट आ सकता है. रिश्तों के मामलों में भी शनि की उल्टी चाल आपके लिए अशुभ है. पति-पत्नि के रिश्ते खराब हो सकते हैं. शादी के मामले में विघ्न आ सकता है.

कर्क- कर्क राशि के जातकों के लिए शनि की उल्टी चाल बेहद खास रहने वाली है. शनि आपकी राशि के 7वें भाव में वक्री होंगे. आपको कई मामलों में बड़ा नुकसान हो सकता है. क्रोध बढ़ेगा. विवाह में अड़चनें आएंगी. स्वास्थ्य के मामले में थोड़ी गड़बड़ हो सकती है, इसलिए ध्यान देने की जरूरत है. हालांकि व्यापार और धन के मामले में वक्री शनि आपको लाभ देंगे. इस अवधि में किया गया निवेश आपको लंबे समय तक लाभ देगा. मई, जून में थोड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है और जुलाई से सब ठीक होने वाला है.

सिंह- सिंह राशि के छठे घर में शनि वक्री होंगे. शनि की चाल बदलने के बाद शत्रु खत्म होंगे. रोगों से छुटकारा मिलेगा. जीवन में तरक्की मिलेगी. अगस्त-सितंबर महीने के बीच प्रोमशन हो सकता है. पुराने रोगों से छुटकारा मिलेगा. नौकरी में स्थिरता आएगा. आर्थिक पक्ष सामान्य रहेगा. हालांकि बड़े नुकसान की संभावना नहीं है.

कन्या- कन्या राशि के 5वें भाव में शनि वक्री होने जा रहे हैं. संतान से शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है. नौकरी, व्यापार या धन के मामले में उपलब्धियां अर्जित करेंगे. हालांकि सेहत और रिश्तों के मामले में थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत होगी. वैज्ञानिक मामलों से जुड़े लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

तुला- तुला राशि के जातकों के चौथे भाव में शनि की उल्टी चाल शुरू होगी. गाड़ी, बंगला और आय के मामले में तरक्की हो सकती है. माता-पिता और आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा. घर में शांति रहेगी. हालांकि चौथे घर में शनि की उल्टी चाल आपके क्रोध की वजह बन सकती है. इसके अलावा नौकरी में लाभ की संभावनाएं रहेंगी.

वृश्चिक- वृश्चिक राशि के जातकों के तीसरे भाव में शनि वक्री होंगे. शनि की उल्टी चाल वृश्चिक राशि वालों को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाएगी. पराक्रम बढ़ेगा, मनचाही जगह पर पोस्टिंग, पिता-भाई से सहयोग के साथ-साथ कार्य कुशलता के दम पर बड़ी उपलब्धि हासिल कर सकते हैं. आय के मामले में भी लाभ होगा.

धनु- धनु राशि वालों के दूसरे भाव में शनि वक्री होंगे. शनि की साढ़ेसाती आपको काफी ज्यादा नुकसान दे सकती है. हालांकि वाणी पर नियंत्रण रखने से आप आगामी सभी नुकसानों से बच सकते हैं. अगले 5 महीने किसी भी तरह का धन संकट नहीं रहेगा. निवेश करने से लंबे समय तक फायदा होगा. प्रॉपर्टी के मामले में भी लाभ होगा. पत्नी और ससुराल पक्ष के साथ रिश्ते बिगड़ सकते हैं.

मकर- शनि अपनी ही राशि मकर में बैठे हैं. अपनी ही राशि में शनि की उल्टी चाल मकर राशि के जातकों को बहुत फायदा देगी. मनोबल बढ़ेगा, महत्वकांक्षा बढ़ेगी और नए व्यापार-नौकरी में तरक्की मिलने की बड़ी संभावनाएं हैं. आर्थिक मामलों में बेहद लाभ होगा. हालांकि विवाह के मामले में विघ्न पड़ सकता है.

कुंभ- शनि की उल्टी चाल कुंभ राशि के 12वें घर में होगी. आपको खर्चों में तेजी से वृ्द्धि होगी. रुपयों का बहुत ज्यादा नुकसान हो सकता है. किसी भी अंजान व्यक्ति को उधार देने से बचें. कहीं भी निवेश न करें. क्रोध बढ़ेगा और आप जबरन लोगों से उलझेंगे. पड़ोसियों से संबंध खराब होंगे. घर में पिता या किसी बुजुर्ग को बीमारियां घेर सकती हैं. स्वास्थ्य संबंधी मामलों में आपको भी नुकसान हो सकता है.

मीन- मीन राशि के 11वें भाव में शनि की उल्टी चाल शुरू होगी. शनि उल्टा चलते हुए 10वें घर की तरफ अग्रसर होने की कोशिश करेंगे. ऐसी स्थिति में कर्मक्षेत्र से लाभ की स्थिति बन रही है. पैसा-रुपया बढ़ेगा और सामाजिक प्रतिष्ठा में भी इजाफा होगा. आय के स्रोत खुलेंगे और तरक्की आपके कदम चूमेगी. जीवन में अच्छे और प्रभावशाली लोगों से मुलाकात होगी. माता-पिता का सहयोग मिलेगा. स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा.

नई दिल्ली: शनि देव 11 मई 2020 को मार्गी से वक्री हो गए हैं. यानी इस तिथि के बाद शनि की उल्टी चाल शुरू हो गई है. शनि अपने पिता सूर्य के नक्षत्र उत्तराशाढा के चौथे चरण और अपनी ही राशि मकर में वक्री हो गए. मिथुन, कर्क और कुंभ राशि के लिए शनि की यह उल्टी चाल बेहद अशुभ संकेत दे रही है. शनि की उल्टी चाल 29 सितंबर तक यानी 142 दिन यूं ही बरकरार रहेगी. आइए जानते हैं शनि के वक्री होने पर सभी 12 राशियों पर कैसा असर पड़ेगा. मेष- शनि देव मेष राशि के 10वें घर में मौजूद हैं. कुंडली में 10वां घर करियर को होता है. यानी इस दौरान शनि आपके करियर में चार चांद लगा सकता है. शनि की उल्टी चाल शुरू होने के बाद अगस्त के आस-पास प्रमोशन के अवसर बन सकते हैं. वरिष्ठ सहयोगी आपके काम से खुश रहेंगे. हालांकि मई, जून और जुलाई के महीने में थोड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है. वृषभ- वक्री शनि वृषभ राशि के 9वें घर में होंगे. 9वें घर में बैठा शनि हमेशा परेशानी की वजह बनता है. हालांकि पिता या बड़े-बुजुर्गों की सेवा करने से वक्री शनि उल्टा लाभ दे सकता है. पैतृक संपत्ति में लाभ मिलता है. धन, व्यापार और नौकरी के मामले में भी फायदा पहुंचाता है. पैतृक आशीर्वाद से आपकी सेहत भी अच्छी रहती है. मिथुन- मिथुन राशि वालों के 8वें भाव में शनि वक्री होंगे. यहां स्थिति थोड़ी खराब हो सकती है. सड़क पर वाहन और कोर्ट कचहरी के मामले में बेहद सावधानी बरतनी होगी. करीब 4 महीने ससुराल पक्ष में भी संकट आ सकता है. रिश्तों के मामलों में भी शनि की उल्टी चाल आपके लिए अशुभ है. पति-पत्नि के रिश्ते खराब हो सकते हैं. शादी के मामले में विघ्न आ सकता है. कर्क- कर्क राशि के जातकों के लिए शनि की उल्टी चाल बेहद खास रहने वाली है. शनि आपकी राशि के 7वें भाव में वक्री होंगे. आपको कई मामलों में बड़ा नुकसान हो सकता है. क्रोध बढ़ेगा. विवाह में अड़चनें आएंगी. स्वास्थ्य के मामले में थोड़ी गड़बड़ हो सकती है, इसलिए ध्यान देने की जरूरत है. हालांकि व्यापार और धन के मामले में वक्री शनि आपको लाभ देंगे. इस अवधि में किया गया निवेश आपको लंबे समय तक लाभ देगा. मई, जून में थोड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है और जुलाई से सब ठीक होने वाला है. सिंह- सिंह राशि के छठे घर में शनि वक्री होंगे. शनि की चाल बदलने के बाद शत्रु खत्म होंगे. रोगों से छुटकारा मिलेगा. जीवन में तरक्की मिलेगी. अगस्त-सितंबर महीने के बीच प्रोमशन हो सकता है. पुराने रोगों से छुटकारा मिलेगा. नौकरी में स्थिरता आएगा. आर्थिक पक्ष सामान्य रहेगा. हालांकि बड़े नुकसान की संभावना नहीं है. कन्या- कन्या राशि के 5वें भाव में शनि वक्री होने जा रहे हैं. संतान से शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है. नौकरी, व्यापार या धन के मामले में उपलब्धियां अर्जित करेंगे. हालांकि सेहत और रिश्तों के मामले में थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत होगी. वैज्ञानिक मामलों से जुड़े लोगों को भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. तुला- तुला राशि के जातकों के चौथे भाव में शनि की उल्टी चाल शुरू होगी. गाड़ी, बंगला और आय के मामले में तरक्की हो सकती है. माता-पिता और आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा. घर में शांति रहेगी. हालांकि चौथे घर में शनि की उल्टी चाल आपके क्रोध की वजह बन सकती है. इसके अलावा नौकरी में लाभ की संभावनाएं रहेंगी. वृश्चिक- वृश्चिक राशि के जातकों के तीसरे भाव में शनि वक्री होंगे. शनि की उल्टी चाल वृश्चिक राशि वालों को सबसे ज्यादा फायदा पहुंचाएगी. पराक्रम बढ़ेगा, मनचाही जगह पर पोस्टिंग, पिता-भाई से सहयोग के साथ-साथ कार्य कुशलता के दम पर बड़ी उपलब्धि हासिल कर सकते हैं. आय के मामले में भी लाभ होगा. धनु- धनु राशि वालों के दूसरे भाव में शनि वक्री होंगे. शनि की साढ़ेसाती आपको काफी ज्यादा नुकसान दे सकती है. हालांकि वाणी पर नियंत्रण रखने से आप आगामी सभी नुकसानों से बच सकते हैं. अगले 5 महीने किसी भी तरह का धन संकट नहीं रहेगा. निवेश करने से लंबे समय तक फायदा होगा. प्रॉपर्टी के मामले में भी लाभ होगा. पत्नी और ससुराल पक्ष के साथ रिश्ते बिगड़ सकते हैं. मकर- शनि अपनी ही राशि मकर में बैठे हैं. अपनी ही राशि में शनि की उल्टी चाल मकर राशि के जातकों को बहुत फायदा देगी. मनोबल बढ़ेगा, महत्वकांक्षा बढ़ेगी और नए व्यापार-नौकरी में तरक्की मिलने की बड़ी संभावनाएं हैं. आर्थिक मामलों में बेहद लाभ होगा. हालांकि विवाह के मामले में विघ्न पड़ सकता है. कुंभ- शनि की उल्टी चाल कुंभ राशि के 12वें घर में होगी. आपको खर्चों में तेजी से वृ्द्धि होगी. रुपयों का बहुत ज्यादा नुकसान हो सकता है. किसी भी अंजान व्यक्ति को उधार देने से बचें. कहीं भी निवेश न करें. क्रोध बढ़ेगा और आप जबरन लोगों से उलझेंगे. पड़ोसियों से संबंध खराब होंगे. घर में पिता या किसी बुजुर्ग को बीमारियां घेर सकती हैं. स्वास्थ्य संबंधी मामलों में आपको भी नुकसान हो सकता है. मीन- मीन राशि के 11वें भाव में शनि की उल्टी चाल शुरू होगी. शनि उल्टा चलते हुए 10वें घर की तरफ अग्रसर होने की कोशिश करेंगे. ऐसी स्थिति में कर्मक्षेत्र से लाभ की स्थिति बन रही है. पैसा-रुपया बढ़ेगा और सामाजिक प्रतिष्ठा में भी इजाफा होगा. आय के स्रोत खुलेंगे और तरक्की आपके कदम चूमेगी. जीवन में अच्छे और प्रभावशाली लोगों से मुलाकात होगी. माता-पिता का सहयोग मिलेगा. स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा.