1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. मेघालय के गवर्नर बोले- हरियाणा के मुख्यमंत्री किसानों से मांगें माफी, करनाल के SDM को करें तुरंत बर्खास्त

मेघालय के गवर्नर बोले- हरियाणा के मुख्यमंत्री किसानों से मांगें माफी, करनाल के SDM को करें तुरंत बर्खास्त

हरियाणा (Haryana) के करनाल में किसानों पर लाठी चार्ज (Lathi Charge on Farmers) का मुद्दा अब तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मेघालय के गवर्नर सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने फिर से हरियाणा के मनोहर लाल खट्टर सरकार की आलोचना की है। गवर्नर सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को किसानों से माफ़ी मांगने को कहा है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। हरियाणा (Haryana) के करनाल में किसानों पर लाठी चार्ज (Lathi Charge on Farmers) का मुद्दा अब तूल पकड़ता जा रहा है। इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मेघालय के गवर्नर सत्यपाल मलिक (Meghalaya Governor Satya Pal Malik) ने फिर से हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर  (Haryana Chief Minister Manohar Lal Khattar) की आलोचना की है। गवर्नर सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को किसानों से माफ़ी मांगने को कहा है।

पढ़ें :- हौंसले की उड़ान : सड़कों पर झाड़ू लगाने वाली, दो बच्चों की मां बनी SDM
Jai Ho India App Panchang

एक टीवी इंटरव्यू में गवर्नर सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने कहा कि किसानों पर लाठी चार्ज (Lathi Charge on Farmers)  का आदेश देने वाले एसडीएम को फौरन बर्खास्त किया जाय। बता दें कि पश्चिमी यूपी से ताल्लुक रखने वाले सत्यपाल मलिक इससे पहले भी किसानों के समर्थन में आवाज उठाते रहे हैं।

सत्यपाल मलिक (Satya Pal Malik) ने कहा कि आरोपी एसडीएम नौकरी में रहने के लायक नहीं है, जबकि खट्टर सरकार उसे संरक्षण दे रही है। उन्होंने इस बात पर भी दुख जताया कि 600 किसानों की मौत हुई, लेकिन सरकार की तरफ से किसी ने सांत्वना के एक शब्द भी नहीं बोले। उन्होंने कहा कि मैं एक किसान का बेटा हूं। उनका मर्म जानता हूं।

गवर्नर ने आरोप लगाया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Haryana Chief Minister Manohar Lal Khattar)  जानबूझकर किसानों पर लाठी चलवा रहे हैं, जबकि केंद्र सरकार ने किसानों पर बल प्रयोग नहीं किया। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को देखते हुए मैंने शीर्ष नेतृत्व से बोला था कि किसानों पर बल प्रयोग न करें। अपनी ही सरकार के खिलाफ बोलने पर उन्होंने कहा कि मुझे गवर्नर के पद से मोहब्बत नहीं है। मैं जो बोलता हूं, दिल से बोलता हूं। मुझे वापस किसानों के बीच जाना है।

मलिक ने एसडीएम के आदेश पर रोष जताते हुए कहा कि सिर मजिस्ट्रेट का भी फूट सकता है। सिर उसके ऊपर के लोगों का भी फूट सकता है। बिना खट्टर साहब के इशारे के ये नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि मैं अपने लोगों के लिए बोलता रहूंगा, चाहे उसके नतीजे कुछ भी हों।

पढ़ें :- यूपी : वैक्सीनेशन के डर से गांव के लोगों ने मेडिकल टीम देख नदी में लगा दी छलांग, मचा हड़कंप

बता दें कि हरियाणा (Haryana) के करनाल में शनिवार को बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी (BJP State Executive) की बैठक हुई थी। उस दौरान प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था। इसमें कई किसानों को गंभीर चोटें आईं थी। इस मामले में एसडीएम आयुष सिन्हा (SDM Ayush Sinha) का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें उन्हें कथित तौर पर यह कहते हुए सुना जा सकता है कि प्रदर्शनकारियों का सिर फोड़ दो।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...