पुलिसवालों की जगह भ्रष्ट नेताओं की हत्या करें आतंकी: सत्यपाल मलिक

satypal malik
पुलिसवालों की जगह भ्रष्ट नेताओं की हत्या करें आतंकी: सत्यपाल मलिक

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को कहा कि आतंकियों को पुलिसवालों की जगह भ्रष्ट राजनेताओं और नौकरशाहों की हत्या करनी चाहिए। सत्यपाल मलिक ने कहा कि यही लोग राज्य को लूट रहे हैं। यह बात उन्होंने करगिल में भाषण के दौरान कही। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल के इस बयान पर विवाद उत्पन्न हो सकता है।

Satyapal Malik Says Terrorists Should Kill Those Who Looted Kashmir :

राज्यपाल सत्यपाल मलिक का नाता विवादित बयानों से रहा है। उनकी बातें कई बार सरकार के लिए मुसीबत खड़ी कर चुकी हैं।इस साल जनवरी में मलिक अचानक सुर्खियों में आ गए जब उन्होंने कहा कि कोई भी आतंकी मारा जाता है तो उन्हें दुख होता है, इससे सिर्फ पुलिस के हिसाब से उपलब्धि बढ़ी है।

हालांकि राज्यपाल ने फौरन यह भी कहा कि हथियार उठाना कभी हल नहीं हो सकता और श्रीलंका में लिट्टे का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा, ‘‘भारत सरकार कभी हथियार के आगे घुटने नहीं टेकेगी।’’ उन्होंने आतंकवादियों से हिंसा का रास्ता नहीं अपनाने को कहा। उन्होंने मुख्यधारा के नेताओं पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा कि ये नेता दिल्ली में अलग भाषा बोलते हैं और कश्मीर में कुछ और बोलते हैं।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने रविवार को कहा कि आतंकियों को पुलिसवालों की जगह भ्रष्ट राजनेताओं और नौकरशाहों की हत्या करनी चाहिए। सत्यपाल मलिक ने कहा कि यही लोग राज्य को लूट रहे हैं। यह बात उन्होंने करगिल में भाषण के दौरान कही। जम्मू कश्मीर के राज्यपाल के इस बयान पर विवाद उत्पन्न हो सकता है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक का नाता विवादित बयानों से रहा है। उनकी बातें कई बार सरकार के लिए मुसीबत खड़ी कर चुकी हैं।इस साल जनवरी में मलिक अचानक सुर्खियों में आ गए जब उन्होंने कहा कि कोई भी आतंकी मारा जाता है तो उन्हें दुख होता है, इससे सिर्फ पुलिस के हिसाब से उपलब्धि बढ़ी है। हालांकि राज्यपाल ने फौरन यह भी कहा कि हथियार उठाना कभी हल नहीं हो सकता और श्रीलंका में लिट्टे का उदाहरण दिया। उन्होंने कहा, ‘‘भारत सरकार कभी हथियार के आगे घुटने नहीं टेकेगी।’’ उन्होंने आतंकवादियों से हिंसा का रास्ता नहीं अपनाने को कहा। उन्होंने मुख्यधारा के नेताओं पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा कि ये नेता दिल्ली में अलग भाषा बोलते हैं और कश्मीर में कुछ और बोलते हैं।