MP चुनाव : कांग्रेस ने पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी को पार्टी से निकाला

MP चुनाव : कांग्रेस ने पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी को पार्टी से निकाला
MP चुनाव : कांग्रेस ने पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी को पार्टी से निकाला

मध्य प्रदेश। विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने बागियों पर ऐक्शन तेज कर दिया है। पूर्व राज्‍यसभा सांसद अौर वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता सत्‍यव्रत चतुर्वेदी को कांग्रेस ने पार्टी से बाहर कर दिया है उन पर अनुशासनहीनता के चलते यह कार्रवाई की गई है। चतुर्वेदी के बेटे मप्र की राजनगर विधानसभा से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी हैं। चतुर्वेदी पर यहां अपने बेटे के लिए सपा की ओर से प्रचार कर रहे हैं।

Satyavrat Chaturvedi Factor In Chattarpur Madhya Pradesh :

बता दें कि छतरपुर जिले की राजनगर सीट से सत्यव्रत चतुर्वेदी के पुत्र नितिन चतुर्वेदी समाजवादी पार्टी (एसपी) के प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। बेटे के लिए टिकट मांग रहे सत्यव्रत ने पार्टी नेतृत्व पर गंभीर आरोप भी लगाए थे। उन्होंने साफ कहा था कि वह अपने बेटे के लिए प्रचार करेंगे।

कांग्रेस के नेताओं ने उन्हें मनाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं माने। खुद पार्टी के वरिष्ठ नेता और एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने उनके इस फैसले पर दुख जताया था। नामांकन की तारीख निकलने के बाद से अब तक कांग्रेस 17 लोगों को पार्टी से निकाल चुकी है। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के 8 नेता दूसरे दलों से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि करीब एक दर्जन निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं।

सत्यव्रत चतुर्वेदी का राजनैतिक सफर

1980-84 और 1993-97 विधायक मध्य प्रदेश विधानसभा, 1983-84 उप मंत्री, मध्य प्रदेश सरकार, 1999 फरवरी से 2004 सदस्य तेरहवीं लोकसभा, 3 अप्रैल 2012 से 2 अप्रैल 2018 तक राज्यसभा सांसद। इसके अलावा सत्यव्रत चतुर्वेदी तमाम महत्वपूर्ण समितियों का हिस्सा भी रहे हैं।

मध्य प्रदेश। विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने बागियों पर ऐक्शन तेज कर दिया है। पूर्व राज्‍यसभा सांसद अौर वरिष्‍ठ कांग्रेस नेता सत्‍यव्रत चतुर्वेदी को कांग्रेस ने पार्टी से बाहर कर दिया है उन पर अनुशासनहीनता के चलते यह कार्रवाई की गई है। चतुर्वेदी के बेटे मप्र की राजनगर विधानसभा से समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी हैं। चतुर्वेदी पर यहां अपने बेटे के लिए सपा की ओर से प्रचार कर रहे हैं। बता दें कि छतरपुर जिले की राजनगर सीट से सत्यव्रत चतुर्वेदी के पुत्र नितिन चतुर्वेदी समाजवादी पार्टी (एसपी) के प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं। बेटे के लिए टिकट मांग रहे सत्यव्रत ने पार्टी नेतृत्व पर गंभीर आरोप भी लगाए थे। उन्होंने साफ कहा था कि वह अपने बेटे के लिए प्रचार करेंगे। कांग्रेस के नेताओं ने उन्हें मनाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह नहीं माने। खुद पार्टी के वरिष्ठ नेता और एमपी के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने उनके इस फैसले पर दुख जताया था। नामांकन की तारीख निकलने के बाद से अब तक कांग्रेस 17 लोगों को पार्टी से निकाल चुकी है। उल्लेखनीय है कि कांग्रेस के 8 नेता दूसरे दलों से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि करीब एक दर्जन निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं।

सत्यव्रत चतुर्वेदी का राजनैतिक सफर

1980-84 और 1993-97 विधायक मध्य प्रदेश विधानसभा, 1983-84 उप मंत्री, मध्य प्रदेश सरकार, 1999 फरवरी से 2004 सदस्य तेरहवीं लोकसभा, 3 अप्रैल 2012 से 2 अप्रैल 2018 तक राज्यसभा सांसद। इसके अलावा सत्यव्रत चतुर्वेदी तमाम महत्वपूर्ण समितियों का हिस्सा भी रहे हैं।