1. हिन्दी समाचार
  2. सऊदी-रूस जंग: पूरी दुनिया में पानी से भी सस्ता हुआ कच्चा तेल, भारत में क्या होगा आम जनता को फायदा?

सऊदी-रूस जंग: पूरी दुनिया में पानी से भी सस्ता हुआ कच्चा तेल, भारत में क्या होगा आम जनता को फायदा?

Saudi Arabia Russia Price War 29 Year Large Drop In Prices Brent Crude Rolled Up By 30

By रवि तिवारी 
Updated Date

नई दिल्ली। रूस की ओर से ओपेक देशों के साथ तेल उत्पादन में कटौती पर सहमति नहीं बनने के बाद सऊदी अरब ने प्राइस वॉर छेड़ दिया है। इसके चलते सऊदी अरब ने कच्चे तेल (Crude Oil) के भाव में 30 फीसदी की भारी गिरावट देखने को मिली है। कच्चे तेल देश में प्रति लीटर तेल की कीमत बोतलबंद पानी से भी सस्ती हो गयी है। बोतलबंद पानी की कीमत 20 रुपये प्रति लीटर है, जबकि कच्चे तेल की कीमत 2212 रुपये प्रति बैरल है। एक बैरल में लगभग 159 लीटर तेल आता है। इस लिहाज से देखें तो प्रति लीटर कच्चे तेल की कीमत 13.91 रुपये होता है।

पढ़ें :- ऐसे लोगों के घर में नहीं आती लक्ष्मी, हमेशा बनी रहती पैसों की कमी, जानिए इनकी गलती

6 रुपए तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल-डीजल

ग्लोबल मार्केट में कच्चे तेल के भाव में इस बड़ी गिरावट के चलते घरेलू मार्केट में इसका असर साफ देखने को मिल सकता है। आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल का भाव में भी बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। सीनियर ट्रेड एनालिस्ट अरुण केजरीवाल के मुताबिक, कच्चे तेल के भाव में गिरावट का फायदा भारत को मिलेगा। पेट्रोल-डीजल 6 रुपए प्रति लीटर तक सस्ता हो सकता है। हालांकि, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर बना हुआ है। इसलिए पेट्रोल-डीजल में ज्यादा बड़ी कटौती की उम्मीद कम है।
रूस और सऊदी अरब की ‘लड़ाई’ का फायदा

रूस और सऊदी अरब के बीच उत्पादन कटौती पर सहमति नहीं बनने के बाद इस प्राइस वार का फायदा भारत को मिलेगा। दुनिया के सबसे बड़ा तेल निर्यातक सऊदी अरब और दूसरे सबसे बड़े उत्पादक रूस एक दूसरे को सबक सिखाने की कोशिश करेंगे। कोरोनो वायरस से आर्थिक गिरावट के चलते क्रूड के गिरते भाव को संभालने के लिए उत्पादन में कटौती का समर्थन किया गया था। लेकिन, रूस ने उत्पादन घटाने से इनकार कर दिया। इसके बाद सऊदी अरब ने कच्चे तेल के भाव में भारी कटौती का ऐलान कर दिया। तेल बाजार में प्राइस वार छिड़ने का डर पैदा हो गया।

रॉयटर्स के मुताबिक, सऊदी अरब अप्रैल से तेल उत्पादन को एक दिन में 10 मिलियन बैरल से ऊपर ले जाने की योजना बना रहा है। रूस के साथ अपने ओपेक गठबंधन को खत्म करने के लिए सऊदी अरब आक्रामक रूप अपना सकता है। इस वजह से भी तेल की कीमतों में बड़ी गिरावट देखने को मिल सकती है। साथ ही पेट्रोल-डीजल के भाव में भी अच्छी गिरावट देखने को मिल सकती है।

पढ़ें :- यदि आपके हाथों मे है ये खास बात, तो आप अवश्य बनेंगे बहुत धनवान

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...