Savan 2019: जाने कब से शुरू होगा भगवान शिव का प्रिय महीना सावन

Savan 2019: जाने कब से शुरू होगा भगवान शिव का प्रिय महिना सावन
महाशिवरात्रि 2019, शिवरात्री, शिवरात्री 2019, maha shivaratri, maha shivaratri 2019

लखनऊ। बस कुछ ही दिनों में भगवान शिव का प्रिय महिना सावन शुरू होने जा रहा है। हिन्दू धर्म में सावन का महीना बेहद पवित्र माना जाता है और मान्यता है कि इन दिनों में जो भी भगवान शिव की आराधना सच्चे मन से करते हैं उनकी सभी मनोकामना पूर्ण होती है। इस बार 17 जुलाई से सावन की शुरुआत होगी और 15 अगस्त को समाप्त होगा। सावन के महीने में शिव मंदिरों में भक्तों की धूम नज़र आती है

Savan 2019 Savan Month Start On 17 July :

सावन के महीने में शिवलिंग पर बेल के पत्ते चढ़ाने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। इसके अलावा फल-फूल, भांग, दूध, जल, चीनी, घी, शहद, पंचामृत, कलावा, वस्त्र यज्ञोपवि, चन्दन, रोली, चावल, फूल, बिल्ब पत्र, दूर्वा, आक, धतूरा कमलगट्टा, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, पंचमेवा, धूप, दीप और दक्षिणा कपूर से आरती करनी चाहिए। कहा जाता है कि सावन में शिव की पूजा में इन चीजों को चढ़ाया जाना आवश्यक होता है।

सावन के पहले दिन बनेंगे ये योग

इस बार सावन के महीने की शुरूआत चंद्रग्रहण के दिन से हो रही है। साथ ही इस दिन गुरु पूर्णिमा भी रहेगी। ज्योतिष गणना के अनुसार 16 जुलाई की रात को चंद्रग्रहण लगेगा फिर इसके अगले ही दिन से सावन शुरू हो जाएगा। इसके अलावा 17 जुलाई को सूर्य राशि बदलकर मिथुन से कर्क में प्रवेश करेंगे।

लखनऊ। बस कुछ ही दिनों में भगवान शिव का प्रिय महिना सावन शुरू होने जा रहा है। हिन्दू धर्म में सावन का महीना बेहद पवित्र माना जाता है और मान्यता है कि इन दिनों में जो भी भगवान शिव की आराधना सच्चे मन से करते हैं उनकी सभी मनोकामना पूर्ण होती है। इस बार 17 जुलाई से सावन की शुरुआत होगी और 15 अगस्त को समाप्त होगा। सावन के महीने में शिव मंदिरों में भक्तों की धूम नज़र आती है सावन के महीने में शिवलिंग पर बेल के पत्ते चढ़ाने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। इसके अलावा फल-फूल, भांग, दूध, जल, चीनी, घी, शहद, पंचामृत, कलावा, वस्त्र यज्ञोपवि, चन्दन, रोली, चावल, फूल, बिल्ब पत्र, दूर्वा, आक, धतूरा कमलगट्टा, पान, सुपारी, लौंग, इलायची, पंचमेवा, धूप, दीप और दक्षिणा कपूर से आरती करनी चाहिए। कहा जाता है कि सावन में शिव की पूजा में इन चीजों को चढ़ाया जाना आवश्यक होता है। सावन के पहले दिन बनेंगे ये योग इस बार सावन के महीने की शुरूआत चंद्रग्रहण के दिन से हो रही है। साथ ही इस दिन गुरु पूर्णिमा भी रहेगी। ज्योतिष गणना के अनुसार 16 जुलाई की रात को चंद्रग्रहण लगेगा फिर इसके अगले ही दिन से सावन शुरू हो जाएगा। इसके अलावा 17 जुलाई को सूर्य राशि बदलकर मिथुन से कर्क में प्रवेश करेंगे।