सावरकर विवाद: स्वामी चक्रपाणि ने राहुल गांधी को बताया समलैंगिक

Swami Chakrapani
सावरकर विवाद: स्वामी चक्रपाणि ने राहुल गांधी को बताया समलैंगिक

नई दिल्ली। वीर सावरकर को लेकर हमेशा भाजपा और कांग्रेस के बीच विवाद चलता रहता है। हाल ही में मध्य प्रदेश में कांग्रेस सेवादार की ओर से एक किताब लिखी गयी है जिसमें सावरकर को समलैंगिक बताया गया है। इसी के बाद से अब इस पर विवाद खड़ा हो गया है। वहीं अब भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने भी भी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर एक विवादित टिप्पणी की है। चक्रपाणि ने राहुल गांधी को ही समलैंगिक बता ​दिया है।

Savarkar Controversy Swami Chakrapani Told Rahul Gandhi Gay :

अखिल भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने कहा, ‘यह हिंदू महासभा के पूर्व अध्यक्ष सावरकरजी के खिलाफ बिल्कुल बेहूदे आरोप हैं। इसी तरह हमने भी सुना है कि राहुल गांधी होमोसेक्शुअल हैं।’ ये सावरकर के खिलाफ हास्यास्पद आरोप हैं, हमने भी सुना है कि राहुल गांधी समलैंगिक हैं।

आपको बता दें कि पूरा विवाद कांग्रेस सेवादल की ओर से बांटी गई किताब के बाद शुरू हुआ। इस किताब में लिखा है- ‘वीर सावरकर कितने वीर।’ भोपाल में आयोजित 10 दिवसीय ट्रेनिंग कैंप में इस किताब को बांटा गया, जिसमें महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का भी जिक्र है। किताब में लिखा है कि गोडसे और सावरकर के बीच शारीरिक संबंध थे। किताब में लिखा गया है कि ‘ब्रह्मचर्य धारण करने से पहले नाथूराम गोडसे के एक ही शारीरिक संबंध का ब्यौरा मिलता है, यह समलैंगिक संबंध थे। उनका पार्टनर था उनका राजनैतिक गुरु वीर सावरकर.’

सावरकर विवाद पर गिरिराज सिंह ने भी कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस जिन्ना को अपना आदर्श मानती है वहीं महाराष्ट्र में कांग्रेस की सहयोगी शिवसेना ने भी कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, ‘वीर सावरकर एक महान व्यक्तित्व थे और हमेशा रहेंगे। एक वर्ग उनके खिलाफ बोलता रहता है जो उनके दिमाग की गंदगी को दिखाता है कि कितना हद तक वे गिर सकते हैं।’ वहीं उमा भारती ने कहा है कि कांग्रेस का दिमागी संतुलन बिगड़ गया है।

नई दिल्ली। वीर सावरकर को लेकर हमेशा भाजपा और कांग्रेस के बीच विवाद चलता रहता है। हाल ही में मध्य प्रदेश में कांग्रेस सेवादार की ओर से एक किताब लिखी गयी है जिसमें सावरकर को समलैंगिक बताया गया है। इसी के बाद से अब इस पर विवाद खड़ा हो गया है। वहीं अब भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने भी भी कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर एक विवादित टिप्पणी की है। चक्रपाणि ने राहुल गांधी को ही समलैंगिक बता ​दिया है। अखिल भारतीय हिंदू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने कहा, 'यह हिंदू महासभा के पूर्व अध्यक्ष सावरकरजी के खिलाफ बिल्कुल बेहूदे आरोप हैं। इसी तरह हमने भी सुना है कि राहुल गांधी होमोसेक्शुअल हैं।' ये सावरकर के खिलाफ हास्यास्पद आरोप हैं, हमने भी सुना है कि राहुल गांधी समलैंगिक हैं। आपको बता दें कि पूरा विवाद कांग्रेस सेवादल की ओर से बांटी गई किताब के बाद शुरू हुआ। इस किताब में लिखा है- 'वीर सावरकर कितने वीर।' भोपाल में आयोजित 10 दिवसीय ट्रेनिंग कैंप में इस किताब को बांटा गया, जिसमें महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का भी जिक्र है। किताब में लिखा है कि गोडसे और सावरकर के बीच शारीरिक संबंध थे। किताब में लिखा गया है कि 'ब्रह्मचर्य धारण करने से पहले नाथूराम गोडसे के एक ही शारीरिक संबंध का ब्यौरा मिलता है, यह समलैंगिक संबंध थे। उनका पार्टनर था उनका राजनैतिक गुरु वीर सावरकर.' सावरकर विवाद पर गिरिराज सिंह ने भी कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस जिन्ना को अपना आदर्श मानती है वहीं महाराष्ट्र में कांग्रेस की सहयोगी शिवसेना ने भी कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, 'वीर सावरकर एक महान व्यक्तित्व थे और हमेशा रहेंगे। एक वर्ग उनके खिलाफ बोलता रहता है जो उनके दिमाग की गंदगी को दिखाता है कि कितना हद तक वे गिर सकते हैं।' वहीं उमा भारती ने कहा है कि कांग्रेस का दिमागी संतुलन बिगड़ गया है।