सावन में सोमवार को ही क्यों रखते हैं व्रत, जानें उपवास के फायदे

सावन में सोमवार को ही क्यों रखते हैं व्रत, जानें उपवास के फायदे
सावन में सोमवार को ही क्यों रखते हैं व्रत, जानें उपवास के फायदे

लखनऊ। हिन्दू धर्म में शिव भक्ति के लिए सोमवार का दिन सबसे खास माना गया है। मान्यता है कि सोमवार के दिन जो भी व्यक्ति भगवान शिव की आराधना पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करता है भोलेनाथ उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि शिव भक्ति के लिए सोमवार का ही दिन क्यों चुना गया है? चलिए आज हम आपको बताते हैं कि भगवान शिव की आराधना के लिए सोमवार का ही दिन क्यों चुना जाता है और सोवार व्रत से क्या होते हैं लाभ….

Sawan 2019 Benefits Of Worshipping Lord Shiva On Monday :

सोम का अर्थ होता है सौम्य—- हिंदू धर्म में भगवान शिव को भी बेहद सौम्य देवता के रूप में देखा जाता है। उनकी सरलता और सहजता की वजह से भक्त उन्हें भोलेनाथ कहकर बुलाते हैं।
सोम का अर्थ है सोमरस—- धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सोमरस का सेवन देवता किया करते थे। जिस प्रकार सोमरस को अमृत के समान समझा जाता है ठीक उसी तरह शिव मनुष्यों के लिए कल्याणकारी बने रहे इसलिए सोमवार को महादेव की उपासना की जाती है।
सोम का अर्थ चंद्रमा भी होता है— चंद्रमा को भगवान शिव ने अपने मस्तक पर स्थान दिया है। हर मनुष्य के मन की चेतनता और चंचलता को पकड़कर भगवान शिव ने अपने वश में कर रखा है। यही वजह है कि भगवान शिव की पूजा के लिए सोमवार का दिन चुना जाता है।

सावन सोमवार व्रत के लाभ-

  • सावन के सोमवार का व्रत वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानियों को दूर करता है।
  • कुंवारी लड़कियां मनचाहा वर पाने के लिए भी सोमवार का व्रत रखती हैं।
  • सोमवार का व्रत करने से व्यक्ति को अकाल मृत्यु और दुर्घटना से मुक्ति मिलती है।
  • इस व्रत को करने से रोगी व्यक्ति को निरोग काया का वरदान मिलता है।
  • संतान सुख की चाह रखने वाले व्यक्ति को सावन में रोजाना शिवलिंग पर धतूरा चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से संतान सुख का योग प्रबल बनता है।
लखनऊ। हिन्दू धर्म में शिव भक्ति के लिए सोमवार का दिन सबसे खास माना गया है। मान्यता है कि सोमवार के दिन जो भी व्यक्ति भगवान शिव की आराधना पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करता है भोलेनाथ उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि शिव भक्ति के लिए सोमवार का ही दिन क्यों चुना गया है? चलिए आज हम आपको बताते हैं कि भगवान शिव की आराधना के लिए सोमवार का ही दिन क्यों चुना जाता है और सोवार व्रत से क्या होते हैं लाभ.... सोम का अर्थ होता है सौम्य---- हिंदू धर्म में भगवान शिव को भी बेहद सौम्य देवता के रूप में देखा जाता है। उनकी सरलता और सहजता की वजह से भक्त उन्हें भोलेनाथ कहकर बुलाते हैं। सोम का अर्थ है सोमरस---- धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सोमरस का सेवन देवता किया करते थे। जिस प्रकार सोमरस को अमृत के समान समझा जाता है ठीक उसी तरह शिव मनुष्यों के लिए कल्याणकारी बने रहे इसलिए सोमवार को महादेव की उपासना की जाती है। सोम का अर्थ चंद्रमा भी होता है--- चंद्रमा को भगवान शिव ने अपने मस्तक पर स्थान दिया है। हर मनुष्य के मन की चेतनता और चंचलता को पकड़कर भगवान शिव ने अपने वश में कर रखा है। यही वजह है कि भगवान शिव की पूजा के लिए सोमवार का दिन चुना जाता है। सावन सोमवार व्रत के लाभ-
  • सावन के सोमवार का व्रत वैवाहिक जीवन में चल रही परेशानियों को दूर करता है।
  • कुंवारी लड़कियां मनचाहा वर पाने के लिए भी सोमवार का व्रत रखती हैं।
  • सोमवार का व्रत करने से व्यक्ति को अकाल मृत्यु और दुर्घटना से मुक्ति मिलती है।
  • इस व्रत को करने से रोगी व्यक्ति को निरोग काया का वरदान मिलता है।
  • संतान सुख की चाह रखने वाले व्यक्ति को सावन में रोजाना शिवलिंग पर धतूरा चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से संतान सुख का योग प्रबल बनता है।