1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. इन आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खों से शरीर के मुंहासों को कहें अलविदा

इन आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खों से शरीर के मुंहासों को कहें अलविदा

शरीर के मुंहासे उन्हीं कारकों के कारण होते हैं जो चेहरे के मुंहासों को ट्रिगर कर सकते हैं: अतिसक्रिय तेल ग्रंथियां, अतिरिक्त मृत त्वचा कोशिकाएं मुंहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया का प्रसार कर सकते हैं

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

मुंहासे त्वचा की एक आम समस्या है जिसका अनुभव कई लोग करते हैं। लेकिन क्या सिर्फ चेहरे पर ही नहीं, पीठ और छाती सहित शरीर पर कहीं भी मुंहासे हो सकते हैं। इसलिए इस तरह के मुंहासों को बॉडी एक्ने कहा जाता है।

पढ़ें :- 5 आसान आदतें जो दिल की बीमारियों को रख सकती हैं दूर

क्या कारण हैं?

आयुर्वेदिक चिकित्सक डॉ श्याम वीएल के अनुसार, शरीर में मुंहासे उन्हीं कारकों के कारण होते हैं जो चेहरे पर मुंहासों को ट्रिगर करते हैं: “अति सक्रिय तेल ग्रंथियां, अतिरिक्त मृत त्वचा कोशिकाएं, और मुँहासे पैदा करने वाले बैक्टीरिया का प्रसार। इसके अतिरिक्त, यह कपड़ों से पसीने और घर्षण में वृद्धि का परिणाम भी हो सकता है।

जैसे ही बैक्टीरिया एक बंद छिद्र में गुणा करते हैं, छिद्र सूजन हो जाते हैं। एक मुँहासे पुटी तब बनती है जब सूजन त्वचा में गहराई तक पहुंच जाती है। सिस्ट बहुत दर्दनाक हो सकते हैं। इस प्रकार के मुंहासों के ठीक होने के बाद लोग अक्सर स्थायी निशान देखते हैं ताजे साबुत जैविक पके हुए भोजन, पत्तेदार हरी सब्जियां, मीठे रसीले फल, फलियां सूप और जैतून के तेल का सेवन करें।

* तीन बड़े चम्मच शहद और 1 चम्मच दालचीनी पाउडर को मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को पिंपल्स पर लगाएं और अगली सुबह धो लें।

पढ़ें :- Health Tips: जानिए 5 कारण जो बताते है की देर रात व्यायाम क्यों नहीं करना चाहिए

* कुचले हुए धनिये के बीज और शहद के साथ मिश्रण लगाएं।

* पिंपल्स पर और उसके आसपास ताजा कटे हुए लहसुन/प्याज को धीरे से रगड़ें।

* पिंपल्स के निशान को मिटाने के लिए हरे चने के पाउडर और कस्तूरी हल्दी (एक प्रकार की हल्दी) को बराबर मात्रा में दूध में मिलाकर पेस्ट बना लें।

एलोवेरा – मुंहासों के घरेलू नुस्खे
एलोवेरा में एंटीबैक्टीरियल और एंटीइंफ्लामेट्री तत्व मौजूद होते हैं। साथ ही इसमें एंटीसेप्टिक गुण भी पाए जाते हैं जो कि त्वचा में पिंपल्स को पनपने से रोकते हैं।

उपयोग

पढ़ें :- Saridon: सिर्फ 1 सेरिडोन दूर कर सकता है सिरदर्द, चिंता, अनिद्रा, अवसाद और माइग्रेन जैसे अनेक स्वास्थ्य जोखिमों को

इसके इस्तेमाल के लिए आप घर में एलोवेरा का पौधा जरूर लगाएं।
आप एलोवेरा की पत्तियों को बीच से चीरा लगाकर उसका ताजा जेल निकालकर रोजाना प्रभावित स्थान पर लगाएं।
इस जेल को आप 20 मिनट तक लगा रहने दें और फिर साफ पानी से धो लें।

नीम – पिंपल्स  उपाय
पिंपल हटाने के घरेलू नुस्खे में नीम का इस्तेमाल वर्षों से चला आ रहा है।नीम में एंटीइंफ्लामेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। जो कि मुँहासो को बनाने वाले बैक्टीरिया को मारने में मदद करते हैं।

उपयोग

इसके इस्तेमाल के लिए आप नीम की पत्तियों को पीसकर उसमें थोड़ा पानी और हल्दी मिलाकर लेप तैयार करें।
इस लेप को प्रभावित क्षेत्र पर लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे धो लें।
सप्ताह में कम से कम दो बार यह लेप लगाएं।

बेकिंग सोडा – मुहासे की दवा घरेलू नुस्खे
बेकिंग सोडा में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक गुण होते हैं। जिस वजह से त्वचा के लिए बेकिंग सोडा का उपयोग काफी फायदेमंद साबित होता है।

उपयोग

पढ़ें :- नवरात्रि 2021 उपवास युक्तियाँ: उपवास करते समय वजन कम करने के लिए इन 5 सरल युक्तियों का करें पालन

इसका इस्तेमाल करने के कई तरीके मौजूद हैं।
आप बेकिंग सोडा में पर्याप्त मात्रा में नींबू या दही या बस पानी मिलाकर उसका लेप बना लें।
इस लेप को आप 5 मिनट तक एक्ने (प्रभावित जगह) पर लगा रहने दें और फिर पानी से धो लें।
बर्फ के टुकड़े – पिंपल्स हटाने का घरेलू उपाय
बर्फ के टुकड़े मुंहासों को भगाने के सबसे कारगर घरेलू नुस्खे में शामिल है।

ये त्वचा में अतिरिक्त सीबम उत्पादन को कंट्रोल करते हैं।

उपयोग

इसके इस्तेमाल के लिए आप रोजाना बर्फ के टुकड़ों को हल्के हाथों से पकड़कर मुंहासों पर धीरे धीरे रगड़ें।
इससे कुछ ही दिनों में आपके मुंहासे पूरी तरह ठीक हो जाएंगे।

टमाटर – पिंपल्स हटाने के घरेलू उपाय
टमाटर में साइट्रिक एसिड के गुण मौजूद होते हैं यह त्वचा में अतिरिक्त सीबम उत्पादन को नियंत्रित करने में मददगार साबित होते हैं। जिससे मुंहासों की समस्या से आप आसानी से निजात पा जाएंगे।

उपयोग

इसके इस्तेमाल के लिए आप 2 चम्मच टमाटर का रस में एक चम्मच शहद व आधा चम्मच बेकिंग सोडा डालकर एक पेस्ट बना लें और इसे पिंपल्स पर लगाएं और 10 मिनट बाद धो लें।

पढ़ें :- नवरात्रि 2021: अपने शरीर को डिटॉक्सीफाई करना चाहते हैं? नौ दिनों तक अपनाएं ये आयुर्वेदिक उपवास और डाइट टिप्स

अस्वीकरण: सलाह सहित यह content केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से qualified medical opinion का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने डॉक्टर से सलाह लें। Parda Phash इस जानकारी की जिम्मेदारी नहीं लेता है।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...