परेशानी : 31 दिसंबर से बंद हो जाएंगे एसबीआई के डेबिट कार्ड

sbi debit card
परेशानी : 31 दिसंबर से बंद हो जाएंगे एसबीआई के डेबिअ कार्ड

नई दिल्ली। जो भी लोग एसबीआई का डेबिट कार्ड प्रयोग कर रहे हैं, उनके लिए बुरी खबर है। दरअसल एसबीआई ने पुराना एटीएम कार्ड बंद करने का ऐलान किया है। ये पुराने कार्ड मैजिस्ट्रिप डेबिट कार्ड 31 दिसंबर से अपने आप बंद हो जाएंगे। बाद में बैंक चिप वाले एटीएम कार्ड ग्राहकों को देगी। जिसके एवज में कोई चार्ज भी नहीं लिया जाएगा। बताया जा रहा है कि मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले कार्ड सुरक्षा के लिहाज से कमजोर हैं इसीलिए ऐसे कार्डों को चिप वाले कार्ड में तब्दील किया जा रहा है।

Sbi Magnetic Debit Card Will Not Work After 31st December :

बता दें कि नए कार्ड के लिए ऑनलाइन बैंकिंग से आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा ग्राहक अपनी बैंक शाखा जाकर इसके लिए आवेदन किया जा सकता है। बता दें कि पुराने डेबिट कार्ड के पीछे जो एक काली पट्टी नजर होती है, यहीं मैग्नेटिक स्ट्रिप है, जिसमें आपके खाते की पूरी जानकारी दर्ज होती है।

मैग्नेटिक कार्ड पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं। आंकड़ों के मुतााबिक सबसे ज्यादा यही कार्ड निशाने पर आते है। वहीं चिप वाले डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर एक छोटी चिप लगी होती है, जिसमें खाते की पूरी जानकारी होती है। बता दें कि ये जानकारी इनक्रिप्टेड होती है। चिप कार्ड में ट्रांजैक्शन के दौरान सत्यापित करने के लिए एक यूनिक ट्रांजेक्शन कोड जनरेट होता है। मैग्नेटिक स्ट्राइप कार्ड में ऐसा नहीं होता है, यही वजह है कि चिप वाले कार्ड की हैकिंग या इसे फ्रॉड की संभावना बेहद कम है।

नई दिल्ली। जो भी लोग एसबीआई का डेबिट कार्ड प्रयोग कर रहे हैं, उनके लिए बुरी खबर है। दरअसल एसबीआई ने पुराना एटीएम कार्ड बंद करने का ऐलान किया है। ये पुराने कार्ड मैजिस्ट्रिप डेबिट कार्ड 31 दिसंबर से अपने आप बंद हो जाएंगे। बाद में बैंक चिप वाले एटीएम कार्ड ग्राहकों को देगी। जिसके एवज में कोई चार्ज भी नहीं लिया जाएगा। बताया जा रहा है कि मैग्नेटिक स्ट्रिप वाले कार्ड सुरक्षा के लिहाज से कमजोर हैं इसीलिए ऐसे कार्डों को चिप वाले कार्ड में तब्दील किया जा रहा है। बता दें कि नए कार्ड के लिए ऑनलाइन बैंकिंग से आवेदन कर सकते हैं। इसके अलावा ग्राहक अपनी बैंक शाखा जाकर इसके लिए आवेदन किया जा सकता है। बता दें कि पुराने डेबिट कार्ड के पीछे जो एक काली पट्टी नजर होती है, यहीं मैग्नेटिक स्ट्रिप है, जिसमें आपके खाते की पूरी जानकारी दर्ज होती है। मैग्नेटिक कार्ड पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं। आंकड़ों के मुतााबिक सबसे ज्यादा यही कार्ड निशाने पर आते है। वहीं चिप वाले डेबिट या क्रेडिट कार्ड पर एक छोटी चिप लगी होती है, जिसमें खाते की पूरी जानकारी होती है। बता दें कि ये जानकारी इनक्रिप्टेड होती है। चिप कार्ड में ट्रांजैक्शन के दौरान सत्यापित करने के लिए एक यूनिक ट्रांजेक्शन कोड जनरेट होता है। मैग्नेटिक स्ट्राइप कार्ड में ऐसा नहीं होता है, यही वजह है कि चिप वाले कार्ड की हैकिंग या इसे फ्रॉड की संभावना बेहद कम है।