1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. शून्य बैलेंस पर खाता खुलवाकर एसबीआई ने वसूले 300 करोड़ रुपये, सर्वे में हुआ खुलासा

शून्य बैलेंस पर खाता खुलवाकर एसबीआई ने वसूले 300 करोड़ रुपये, सर्वे में हुआ खुलासा

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने जीरो बैलेंस पर खाता खुलवाकर ग्राहकों से करोड़ों रुपये वसूल लिए। इसका खुलासा आईआईटी बॉम्बे ने अपने एक सर्वे में किया है। सर्वे में सामने आया है कि एसबीआई ने जीरो बैलेंस वाले खाताधारकों यानी बुनियादी बचत बैंक जमा खाता (बीएसबीडीए) धारकों के चार बार से ज्यादा बार पैसे निकालने पर 17.70 रुपये का शुल्क निर्धारित किया था।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Sbi Recovered 300 Crore Rupees By Opening Account On Zero Balance Survey Revealed

नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने जीरो बैलेंस पर खाता खुलवाकर ग्राहकों से करोड़ों रुपये वसूल लिए। इसका खुलासा आईआईटी बॉम्बे ने अपने एक सर्वे में किया है। सर्वे में सामने आया है कि एसबीआई ने जीरो बैलेंस वाले खाताधारकों यानी बुनियादी बचत बैंक जमा खाता (बीएसबीडीए) धारकों के चार बार से ज्यादा बार पैसे निकालने पर 17.70 रुपये का शुल्क निर्धारित किया था।

पढ़ें :- PM मोदी ने कोरोना संक्रमण स्थिति का लिया जायजा, कहा- लॉकडाउन में भी टीकाकरण में न आए कमी

इसी के तहत एसबीआई ने अपने ग्राहकों से 2015 से 2020 के बीच 12 करोड़ खाताधारकों से 300 करोड़ रुपये से ज्यादा वसूले हैं। वहीं, भारत के दूसरे सबसे बड़े बैंक पीएनबी ने इसी अवधि में 3.9 करोड़ गरीब खाताधारकों से 9.9 करोड़ रुपये वसूल किए हैं।

वहीं, इसको लेकर आईआईटी बॉम्बे के प्रोफेसर आशीष दास ने कहा कि डिजिटल भुगतान सहित तक महीने में चार बार से ज्यादा प्रति निकासी पर 17.70 रुपये का शुल्क वसूलना रिजर्व बैंक के नियमों का सुनियोजित उल्लंघन है। रिजर्व बैंक ने सितंबर 2013 में स्पष्ट कर दिया था कि ऐसे खाताधारकों को एक महीने में चार बार से ज्यादा निकासी की अनुमति होगी। बैंक ऐसे लेनदेन पर शुल्क नहीं ले सकते।

 

पढ़ें :- कोरोना संक्रमण: दिल्ली से चलने वाली 29 ट्रेनें रद्द, कोरोना की वजह से रेलवे ने लिया फैसला

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X