1. हिन्दी समाचार
  2. अगर आप भी है SBI ग्राहक तो इन बातों का रखें ध्यान, बदल गए ये नियम

अगर आप भी है SBI ग्राहक तो इन बातों का रखें ध्यान, बदल गए ये नियम

By आस्था सिंह 
Updated Date

Sbi Service Charge Rules Changed

नई दिल्ली। अगर आप भी भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) के ग्राहक हैं तो यह खबर आके लिए बेहद महत्त्वपूर्ण है। दरअसल एसबीआई ने अब कैश डिपॉजिट पर लगने वाले सर्विस चार्जे (Service Charge) में कई बदलाव कर दिये हैं। SBI द्वारा आज नकदी निकासी, औसत मासिक बैलेंस (Average Minimum Balance) और डिपॉजिट से जुड़ें नियमों में कई बदलाव किए गए हैं। ऐसे में यदि आपके पास भी एसबीआई का खाता है तो आपको इन नियमों के बारे में जरूर जान लेना चाहिए।

पढ़ें :- प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर बड़ा आरोप, बोलीं- लखनऊ सहित कई शहरों में छिपाए जा रहे हैं मौत के आंकड़े

एसबीआई के नए नियम

औसतन मासिक बैलेंस:

1 अक्टूबर से SBI ने शहरी क्षेत्रों के खाताधारकों को औसतन मासिक बैलेंस की सीमा 5,000 रुपये से घटाकर 3,000 रुपये कर दिया है। अगर कोई ग्राहक अपने खाते में औसतन 3,000 रुपये नहीं रखता है तो इसके लिए चार्जे देना होगा।

अर्ध शहरी क्षेत्रों में औसतन मासिक बैलेंस 2,000 रुपये है। अगर खाताधारक अपने खाते में औसनत मासिक बैलेंस से 50 फीसदी कम बैलेंस रखते हैं तो इसके लिए उन्हें 7.50 रुपये + जीएसटी के रूप में चार्ज में देना होगा। इसी प्रकार में 50 से 75 फीसदी तक रकम रखने पर 10 रुपये + जीएसटी और 75 फीसदी से कम रकम रखने पर 12 रुपये + जीएसटी चार्जेबल होगा।

पढ़ें :- नदी में तैरते शव मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग सख्त, केंद्र, बिहार और यूपी को भेजा नोटिस

ग्रामीण क्षेत्रों में न्यूनतम औसत बैलेंस 1,000 रुपये होना चाहिए. अगर खाताधारक अपने खाते में औसनत मासिक बैलेंस से 50 फीसदी कम बैलेंस रखते हैं तो इसके लिए उन्हें 5 रुपये + जीएसटी के रूप में चार्ज में देना होगा. इसी प्रकार में 50 से 75 फीसदी तक रकम रखने पर 7.5 रुपये + जीएसटी और 75 फीसदी से कम रकम रखने पर 10 रुपये + जीएसटी चार्जेबल होगा।

आरटीजीएस के जरिए 2 लाख रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक के ट्रांसफर पर अब ग्राहकों को 20 रुपये और जीएसटी देना होगा। वहीं 5 लाख रुपये से अधिक ट्रांसफर करने पर यह रकम जीएसटी के साथ 40 रुपये हो जाएगी।

डिपॉजिट और विड्रॉल: SBI के खाताधारकों के लिए एक माह में 3 बार अपने सेविंग अकाउंट में कैश डिपॉजिट करने पर कोई चार्ज नहीं देना होगा। हालांकि इसके बाद प्रत्येक डिपॉजिट पर ग्राहक को 50 रुपये + जीएसटी अतिरिक्त शुल्क के रूप में देना होगा।

नॉन-होम ब्रांच के जरिए अपने खाते में 2 लाख रुपये तक जमा कर सकते हैं। इसके बाद ब्रांच मैनेजर (Branch Manager) यह फैसला लेगा कि आप इससे अधिक रकम जमा कर सकते हैं या नहीं।

पढ़ें :- कोरोना महामारी पर देश के 100 जिलों के डीएम से रूबरू होंगे पीएम नरेंद्र मोदी , सीएम भी रहेंगे शामिल

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X