कठुआ गैंगरेप मामला : सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर सरकार को दी नोटिस, कही ये बात

supreme court of india
कठुआ गैंगरेप मामला : सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर सरकार को दी नोटिस, कही ये बात

जम्मू। कठुआ में आठ साल की मासूम के साथ हुए गैंगरेप और हत्या के मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने जम्मू कश्मीर सरकार को दो नोटिस दी है। कोर्ट ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने के साथ पीड़ित पक्ष के वकील को भी सिक्योरिटी देने का आदेश दिया है। फिलहाल इस मामले की अगली सुनवाई 27 अप्रैल को होगी।

Sc Give Two Notice To Jk Government :

पीड़ित परिवार ने सुप्रीम कोर्ट से ये भी अनुरोध किया कि उनके मुकदमे को कठुआ से चंडीगढ़ ट्रांसफर कर दिया जाए। पीड़ित द्वारा ये मांग किए जाने के बाद न्यायालय ने राज्य सरकार से इस मामले मे जवाब भी मांगा है।

बता दें कि प्रधान न्यायधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की खण्डपीठ की सुनवाई के दौरान पीड़िता के पिता ने जम्मू पुलिस की जांच से पूरी तरह संतुष्ट होने की बात कही है। वही आरोपी पक्ष के लोगों ने इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। उनका कहना है कि मामले में फर्जी तरीके से उन्हे फंसाया जा रहा है।

बता दें कि गैंगरेप और हत्या के मामले में पकड़े गए नाबालिग लोगों को सुधार ग्रह में समुचित सुरक्षा प्रदान करने का भी न्यायालय ने आदेश​ दिया है। कोर्ट ने कहा कि सुरक्षा में लगने वाले सारे पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में ही रहेंगे।

जम्मू। कठुआ में आठ साल की मासूम के साथ हुए गैंगरेप और हत्या के मामले में सर्वोच्च न्यायालय ने जम्मू कश्मीर सरकार को दो नोटिस दी है। कोर्ट ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने के साथ पीड़ित पक्ष के वकील को भी सिक्योरिटी देने का आदेश दिया है। फिलहाल इस मामले की अगली सुनवाई 27 अप्रैल को होगी।पीड़ित परिवार ने सुप्रीम कोर्ट से ये भी अनुरोध किया कि उनके मुकदमे को कठुआ से चंडीगढ़ ट्रांसफर कर दिया जाए। पीड़ित द्वारा ये मांग किए जाने के बाद न्यायालय ने राज्य सरकार से इस मामले मे जवाब भी मांगा है।बता दें कि प्रधान न्यायधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की खण्डपीठ की सुनवाई के दौरान पीड़िता के पिता ने जम्मू पुलिस की जांच से पूरी तरह संतुष्ट होने की बात कही है। वही आरोपी पक्ष के लोगों ने इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। उनका कहना है कि मामले में फर्जी तरीके से उन्हे फंसाया जा रहा है।बता दें कि गैंगरेप और हत्या के मामले में पकड़े गए नाबालिग लोगों को सुधार ग्रह में समुचित सुरक्षा प्रदान करने का भी न्यायालय ने आदेश​ दिया है। कोर्ट ने कहा कि सुरक्षा में लगने वाले सारे पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में ही रहेंगे।