सिख विरोधी दंगा : सज्जन कुमार की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को जारी किया नोटिस

sikh riots sajjan kumar
सिख विरोधी दंगा : सज्जन कुमार की अपील पर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को जारी किया नोटिस

नई दिल्ली। 1984 में सिख विरोधी दंगों के दोषी पूर्व कांग्रेस नेता सज्जन कुमार की अपील पर अब सुप्रीम कोर्ट में छह हफ्तों बाद सुनवाई होगी। वहीं कोर्ट ने सज्जन की अपील पर सीबीआई को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस अशोक भूषण व जस्टिस अशोक कौल की पीठ ने कुमार की जमानत याचिका पर भी नोटिस जारी किया है।

Sc Issues Notice To Cbi On Appeal Filed By Sajjan Kumar :

बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगों से जुड़े एक मामले में सज्जन कुमार को दोषी ठहराते हुए उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई थी। जिसके बाद सज्जद कुमार हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट के फैसले के आलोक में 73 वर्षीय कुमार ने 31 दिसंबर को सरेंडर कर दिया था।

बताते चलें कि सज्जन कुमार को दिल्ली कैंटोनमेंट के राज नगर इलाके में एक-दो नवंबर 1984 को पांच सिखों की हत्या और एक गुरूद्वारा में आग लगाए जाने के मामले में दोषी करार दिया गया है। 31 अक्टूबर, 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिख विरोधी दंगे हुए थे।

नई दिल्ली। 1984 में सिख विरोधी दंगों के दोषी पूर्व कांग्रेस नेता सज्जन कुमार की अपील पर अब सुप्रीम कोर्ट में छह हफ्तों बाद सुनवाई होगी। वहीं कोर्ट ने सज्जन की अपील पर सीबीआई को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस अशोक भूषण व जस्टिस अशोक कौल की पीठ ने कुमार की जमानत याचिका पर भी नोटिस जारी किया है।बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट ने 1984 के सिख विरोधी दंगों से जुड़े एक मामले में सज्जन कुमार को दोषी ठहराते हुए उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई थी। जिसके बाद सज्जद कुमार हाईकोर्ट के इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट के फैसले के आलोक में 73 वर्षीय कुमार ने 31 दिसंबर को सरेंडर कर दिया था।बताते चलें कि सज्जन कुमार को दिल्ली कैंटोनमेंट के राज नगर इलाके में एक-दो नवंबर 1984 को पांच सिखों की हत्या और एक गुरूद्वारा में आग लगाए जाने के मामले में दोषी करार दिया गया है। 31 अक्टूबर, 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिख विरोधी दंगे हुए थे।