मथुरा: झूठा निकला एसटी/एसटी एक्ट का मुकदमा, सख्त हुआ आयोग

मथुरा: झूठा निकला एसटी/एसटी एक्ट का मुकदमा, सख्त हुआ आयोग
मथुरा: झूठा निकला एसटी/एसटी एक्ट का मुकदमा, सख्त हुआ आयोग

यूपी। मथुरा मे करीब 2 महीने पहले 6 साल के मासूम प्रिंस की हत्या हो गई थी। इस मामले में गांव के ही ब्राह्मण परिवार के पांच लोगों को नामजद किया गया था। ये मामला SC/ST एक्ट से जुड़ा हुआ था, इसलिए मृतक के परिजनों को मुआवजे की राशि भी मिली। जांच के दौरान पुलिस को हत्याकांड के पिछे एक कहानी नजर आई। दोबारा जांच के बाद पुलिस ने खुलासा किया कि गलत लोगों को जान बूझकर मुआवजे के खातिर फंसाया गया था।

Sc St Commission Recommended Action Against A Woman Who Lodge A Fake Fir :

इस मामले में अब एससी-एसटी आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग ने इस मामले को लेकर मथुरा के SSP को निर्देश दिया है कि जिन लोगों ने मामला दर्ज किया है उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। उन्होंने एसएसपी मथुरा से कहा है कि वह इस मामले की विवेचना करके झूठा मुकदमा लिखाने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर उन्हें सजा दिलाएं। वही डीएम को निर्देश दिए हैं कि वह अधिनियम के तहत मिले 412500 रुपये की आर्थिक सहायता की वसूली करें।

इस बीच आरोपी परिवार ने एसएसपी मथुरा से मिलकर जानकारी दी कि इस हत्या में गलत नामजदगी की गई है। जांच के बाद मथुरा पुलिस ने खुलासा किया कि मां गुड्डी देवी ने ही देवर आकाश के साथ मिलकर अपने बच्चे प्रिंस की हत्या कर दी थी और शव कुएं में फेंक दिया था। प्रकरण की जानकारी मिलने के बाद आयोग के अध्यक्ष बृजलाल ने मथुरा पुलिस को निर्देश दिया कि हत्या के इस मामले में तत्परता से विवेचना कर अभियुक्त गुड्डी देवी व उसके देवर आकाश के विरुद्ध आरोप पत्र कोर्ट में पेश किया जाए और इसकी अदालत में अच्छी पैरवी कर उन्हें सजा दिलाई जाए। इसके साथ ही उन्होंने डीएम से आर्थिक सहायता की वसूली कराने को कहा है।

यूपी। मथुरा मे करीब 2 महीने पहले 6 साल के मासूम प्रिंस की हत्या हो गई थी। इस मामले में गांव के ही ब्राह्मण परिवार के पांच लोगों को नामजद किया गया था। ये मामला SC/ST एक्ट से जुड़ा हुआ था, इसलिए मृतक के परिजनों को मुआवजे की राशि भी मिली। जांच के दौरान पुलिस को हत्याकांड के पिछे एक कहानी नजर आई। दोबारा जांच के बाद पुलिस ने खुलासा किया कि गलत लोगों को जान बूझकर मुआवजे के खातिर फंसाया गया था। इस मामले में अब एससी-एसटी आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग ने इस मामले को लेकर मथुरा के SSP को निर्देश दिया है कि जिन लोगों ने मामला दर्ज किया है उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। उन्होंने एसएसपी मथुरा से कहा है कि वह इस मामले की विवेचना करके झूठा मुकदमा लिखाने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर उन्हें सजा दिलाएं। वही डीएम को निर्देश दिए हैं कि वह अधिनियम के तहत मिले 412500 रुपये की आर्थिक सहायता की वसूली करें। इस बीच आरोपी परिवार ने एसएसपी मथुरा से मिलकर जानकारी दी कि इस हत्या में गलत नामजदगी की गई है। जांच के बाद मथुरा पुलिस ने खुलासा किया कि मां गुड्डी देवी ने ही देवर आकाश के साथ मिलकर अपने बच्चे प्रिंस की हत्या कर दी थी और शव कुएं में फेंक दिया था। प्रकरण की जानकारी मिलने के बाद आयोग के अध्यक्ष बृजलाल ने मथुरा पुलिस को निर्देश दिया कि हत्या के इस मामले में तत्परता से विवेचना कर अभियुक्त गुड्डी देवी व उसके देवर आकाश के विरुद्ध आरोप पत्र कोर्ट में पेश किया जाए और इसकी अदालत में अच्छी पैरवी कर उन्हें सजा दिलाई जाए। इसके साथ ही उन्होंने डीएम से आर्थिक सहायता की वसूली कराने को कहा है।