स्कूल में जबरन पढ़ाई जा रही नमाज, धर्म परिवर्तन के लिए बनाया जा रहा दबाव

गुड़गांव। शिक्षा का मंदिर कहे जाने वाले शिक्षण संस्थानों में भी धर्म के नाम पर भेदभाव की घटनाएँ आना बेहद शर्मनाक है लेकिन ऐसा खेल चल रहा है। धार्मिक आधार पर स्कूल में बच्चों के मन में नफरत का बीज बोया जा रहा है। कुछ इसी तरह का मामला गुड़गांव के एक निजी स्कूल से आया है। दरअसल यहां मेवात मॉडल स्कूल मढ़ी (नगीना) में बच्चों को जबरन नमाज पढ़ाने और धर्म परिवर्तन कराने के लिए दबाव डाला जा रहा है।

बच्चों ने आरोप लगाया है कि ऐसा नहीं करने पर उन्हें परेशान किया जाता है। उन्होंने इसकी शिकायत नूंह के डीसी से की। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीसी ने दो शिक्षकों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर एक टीचर का तबादला कर दिया। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारी की अध्यक्षता में तीन सदस्यों की कमिटी गठित कर जांच के आदेश दिए हैं।

मेवात मॉडल स्कूल मढ़ी के कुछ बच्चों ने उपायुक्त मनीराम शर्मा को दी शिकायत में आरोप लगाया कि पहले वह स्कूल के हॉस्टल में रहते थे। इस दौरान कुछ स्टूडेंट्स नमाज पढ़ने के लिए दबाव डालते थे। इतना ही नहीं मुस्लिम टीचर भी उन पर धर्म परिवर्तन के लिए दबाव बनाते थे। इसके लिए स्कूल के एक अध्यापक मोइनुद्दीन उनको परेशान करते थे। इतना ही नहीं उनका आरोप है कि दूसरे धर्मों के प्रति उनका व्यवहार ठीक नहीं है। बच्चों की शिकायत पर डीसी मनीराम शर्मा ने स्कूल के टीचर मुबारिक और मोइनुद्दीन को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया। इसके अलावा आरिफ का तबादला मेवात मॉडल स्कूल मढ़ी से फिरोजपुर झिरका कर दिया। हालांकि निलंबन और तबादले करने की वजह साफ-साफ नहीं बताई गई है।