यूपी के स्कूली वाहनों का सच, टैंपो से निकाले गए 45 बच्चे

हाथरस। यूपी के हाथरस जिले के सहपऊ थाना क्षेत्र में स्कूली वाहन के रूप में चलाए जा रहे टैंपों में भेंड बकरी की तरह बच्चों से भरा पाकर गांव वालों ने रोक लिया। इसी दौरान मौके से गुजर रहे एसडीएम ने मौके पर जमा ग्रामीणों के बीच पहुंच कर जायजा लिया हो वह यह देखकर चौंक गए कि जिस टैंपो को सात सवारियां बैठाने की क्षमता के साथ पास किया जाता है उस टैंपों में 45 बच्चे सवार थे।

मिली जानकारी के मुताबिक मामला हाथरस के गांव परसोरा का है। जहां ग्रामीणों ने बच्चों से भरे कृष्णा पब्लिक स्कूल के टैंपो को स्कूल जाते समय पकड़ लिया जब ग्रामीणों ने टैंपो में बैठे बच्चों उतारना शुरू किया तो एक—एक कर 45 बच्चे उतरे। इतने में वहां से गुजर रहे एसडीएम सादाबाद ने ये नजारा देखा और आनन फानन में सहपऊ थाने में फोन कर पुलिस को बुलाकर स्कूली टैंपो को थाने ​भेज दिया। एसडीएम की कार्यवाही खबर मिलते ही स्कूल संचालकों में हड़कम्प मच गया। हालांकि एसडीएम सादाबाद ने ग्रामीणों को भरोसा दिलाया है कि वाहन मालिक के खिलाफ कार्यवाही के साथ साथ स्कूल की मान्यता रद्द किये जाने की कार्यवाही भी की जायेगी।

{ यह भी पढ़ें:- हाथरस के सरकारी स्कूल में 'भूत' का इलाज, शिक्षक की भूतिया पढ़ाई से डरे बच्चे }

ग्रामीणों का कहना है बीते दिनों ही इस इलाके में एक स्कूली बस हादसे का शिकार हुई थी। उस घटना में कई बच्चों की मौत हो गई थी। घटना के कुछ दिन बाद तक तो प्रशासन ने सख्ती दिखाई लेकिन फिर से स्थितियां जस की तस हो गई थी। निजी स्कूलों के मालिक आरटीओ की मदद से अवैध वाहनों को स्कूल वाहन के रूप में प्रयोग कर बच्चों की जान को जोखिम में डाल रहे हैं। लेकिन आरटीओ अधिकारी है जो आए दिन होने वाली घटनाओं के बावजूद कोई सबक लेने को तैयार नहीं हैं।

{ यह भी पढ़ें:- मरी गाय के साथ पढ़ने को मजबूर नौनिहाल, सूचना पर भी नहीं जागे अफसर }