वैज्ञानिकों ने ढूंढा कैंसर से बचने का नया तरीका, लोगों की बच सकतीं हैं जान

cancer
वैज्ञानिकों ने ढूंढा कैंसर से बचने का नया तरीका, लोगों की बच सकतीं हैं जान

लखनऊ। दुनियाभर में कैंसर से जूझ रहे पीड़ित ज़्यादातर मौत के शिकार हो जाते हैं। आज के इस युग में कैंसर तेज़ी से लोगों को अपना निवाला बना रहा है। जिसकी वजह अनहेल्दी लाइफस्टाइल और अनहेल्दी डाइट हो सकती है। ऐसे में आप ये सोच रहें होंगे की कैसे खुद को कैंसर जैसी घातक बीमारी से सुरक्षित रखा जाए। अब आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि वैज्ञानिकों ने कैंसर का एक नया इलाजा ढूंढ लिया जिसके चलते आप कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से खुद का बचाव कर सकेंगे।

Scientists Find A New Way Of Avoiding Cancer People Can Survive :

कैंसर से जूझ रहें पीड़ितों को ध्यान में रखते हुए वैजानिकों ने चूहों पर स्टडी की है। स्टडी के दौरान सामने आया है कि उन्होंने डिकॉय मॉलिक्यूल्स को विकसित किया है, जो कैंसर की कोशिकाओं का नष्ट करने की ताकत रखता है। इस तकनीक से कैंसर की कोशिकाएं शरीर के दूसरे हिस्सों में नहीं फैलती हैं। साथ ही इस डिकॉय मॉलिक्यूल्सइस से ट्यूमर की ग्रोथ भी कम हो जाती है।

वहीं शोधकर्ताओं ने बताया है कि किसी भी स्टडी में अभी तक कैंसर के इलाज के लिए कैंसर की कोशिकाओं में मौजूद प्रोटीन को टार्गेट नहीं किया गया है। मगर इस बार इस नई खोज के बाद वो एक ऐसी दवाइयां बना सकते जो कई तरह के कैंसर पर कारगर साबित होगी।

स्टडी के मुताबिक पता चला है कि कोशिकाओं में मौजूद प्रोटीन जो RNA से बंधते हैं वो कैंसर के विकास में एक खास भूमिका निभाते हैं। इन्हें RNA बाइंडिंग प्रोटीन कहते हैं, क्योंकि ये RNA मॉलिक्यूल्स को बांधकर रखते है। RNA बाइंडिंग प्रोटीन सभी जीवित जीवों में जीन और कई बायोलॉजिकल भूमिकाओं के लिए जिम्मेदार होते हैं।

लखनऊ। दुनियाभर में कैंसर से जूझ रहे पीड़ित ज़्यादातर मौत के शिकार हो जाते हैं। आज के इस युग में कैंसर तेज़ी से लोगों को अपना निवाला बना रहा है। जिसकी वजह अनहेल्दी लाइफस्टाइल और अनहेल्दी डाइट हो सकती है। ऐसे में आप ये सोच रहें होंगे की कैसे खुद को कैंसर जैसी घातक बीमारी से सुरक्षित रखा जाए। अब आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि वैज्ञानिकों ने कैंसर का एक नया इलाजा ढूंढ लिया जिसके चलते आप कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से खुद का बचाव कर सकेंगे। कैंसर से जूझ रहें पीड़ितों को ध्यान में रखते हुए वैजानिकों ने चूहों पर स्टडी की है। स्टडी के दौरान सामने आया है कि उन्होंने डिकॉय मॉलिक्यूल्स को विकसित किया है, जो कैंसर की कोशिकाओं का नष्ट करने की ताकत रखता है। इस तकनीक से कैंसर की कोशिकाएं शरीर के दूसरे हिस्सों में नहीं फैलती हैं। साथ ही इस डिकॉय मॉलिक्यूल्सइस से ट्यूमर की ग्रोथ भी कम हो जाती है। वहीं शोधकर्ताओं ने बताया है कि किसी भी स्टडी में अभी तक कैंसर के इलाज के लिए कैंसर की कोशिकाओं में मौजूद प्रोटीन को टार्गेट नहीं किया गया है। मगर इस बार इस नई खोज के बाद वो एक ऐसी दवाइयां बना सकते जो कई तरह के कैंसर पर कारगर साबित होगी। स्टडी के मुताबिक पता चला है कि कोशिकाओं में मौजूद प्रोटीन जो RNA से बंधते हैं वो कैंसर के विकास में एक खास भूमिका निभाते हैं। इन्हें RNA बाइंडिंग प्रोटीन कहते हैं, क्योंकि ये RNA मॉलिक्यूल्स को बांधकर रखते है। RNA बाइंडिंग प्रोटीन सभी जीवित जीवों में जीन और कई बायोलॉजिकल भूमिकाओं के लिए जिम्मेदार होते हैं।