2022 विधानसभा चुनाव बिना गठबंधन के लड़ेगी कांग्रेस : ज्योतिरादित्य सिंधिया

jyotiraditya sindhiya
2022 विधानसभा चुनाव बिना गठबंधन के लड़ेगी कांग्रेस : ज्योतिरादित्य सिंधिया

लखनऊ। लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को मिली हार के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी बनाए गए कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लखनऊ में समीक्षा बैठक के दौरान पार्टी को मजबूत बनाने की बात कही है। वहीं बैठक के दौरान राज्य में पार्टी की हार की वजहों पर चर्चा हुई। मीटिंग के बाद उन्होने कहा कि हमें पार्टी की स्थिती को मजबूत करने के लिए जमीनी स्तर पर काफी मेहनत करनी है।

Scindia Says Will Work To Make Congress Stronger In Uttar Pradesh :

बता दें बैठक के दौरान सिंधिया ने 2022 में होने वाले उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के किसी पार्टी के साथ गठबंधन की बात से इनकार किया। उन्होने कहा कि पार्टी विधानसभा चुनाव अकेले लड़गी। उन्होने कहा कि पार्टी नेताओं के साथ ही सभी कार्यकर्ता दो हफ्ते में चुनाव की तैयारियां शुरु कर देंगे।

गौरतलब हो कि कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन सोनिया गांधी को छोड़कर उसका कोई उम्मीदवार चुनाव नहीं जीत सका। इस चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी परंपरागत सीट भी हार गए थे। वहां से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने चुनाव जीता था। बता दें कि लोकसभा चुनाव में पूर्वी उत्तर प्रदेश में प्रचार की कमान प्रियंका गांधी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संभाला था।

लखनऊ। लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को मिली हार के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश के प्रभारी बनाए गए कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने लखनऊ में समीक्षा बैठक के दौरान पार्टी को मजबूत बनाने की बात कही है। वहीं बैठक के दौरान राज्य में पार्टी की हार की वजहों पर चर्चा हुई। मीटिंग के बाद उन्होने कहा कि हमें पार्टी की स्थिती को मजबूत करने के लिए जमीनी स्तर पर काफी मेहनत करनी है। बता दें बैठक के दौरान सिंधिया ने 2022 में होने वाले उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के किसी पार्टी के साथ गठबंधन की बात से इनकार किया। उन्होने कहा कि पार्टी विधानसभा चुनाव अकेले लड़गी। उन्होने कहा कि पार्टी नेताओं के साथ ही सभी कार्यकर्ता दो हफ्ते में चुनाव की तैयारियां शुरु कर देंगे। गौरतलब हो कि कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश की सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ा था, लेकिन सोनिया गांधी को छोड़कर उसका कोई उम्मीदवार चुनाव नहीं जीत सका। इस चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी परंपरागत सीट भी हार गए थे। वहां से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने चुनाव जीता था। बता दें कि लोकसभा चुनाव में पूर्वी उत्तर प्रदेश में प्रचार की कमान प्रियंका गांधी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संभाला था।