मीट पकाने से इंकार करने पर इंजीनियर ने नौकर को कुत्ते से कटवाया, हुई मौत

dog
मीट पकाने से इंकार करने पर इंजीनियर ने नौकर को कुत्ते से कटवाया, हुई मौत

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के मुरैना में सरकारी महकमे के एक अफसर ने नौकर को मीट बनाने का आदेश द‍िया। नौकर ने मना क‍िया तो अपने पालतू कुत्ते को उस पर छोड़ द‍िया। एक महीने इलाज के बाद नौकर की मौत हो गई। मामला वर्ष 2016 का है।  फिलहाल दोनों आरोपी फरार हैं।  

Sdo Servant Meat Dog Bite Murder Case Morena Madhya Pradesh :

नौकर की पत्नी की याचिका पर कोर्ट ने एसडीओ और ड्राइवर के खिलाफ हत्या का केस दर्ज करने का आदेश दिया है। सिटी कोतवाली पुलिस ने मंगलवार को एसडीओ व उसके ड्राइवर के खिलाफ हत्या और साक्ष्य छिपाने का केस दर्ज किया है। 

हरजीत सिंह कुशवाह विभाग में श्रमिक था। एसडीओ मरकट के बंगले पर उसकी ड्यूटी थी। एसडीओ व उसका ड्राइवर प्रीतम उससे मीट बनवाने के अलावा बर्तन भी साफ कराते थे। जुलाई 2016 में मीट बनाने से मना करने पर एसडीओ और ड्राइवर ने पालतू कुत्ता हरजीत के ऊपर छोड़ दिया। 

खूंखार कुत्ते ने हरजीत के शरीर पर दांतों से कई घाव बना दिए थे. हरजीत को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। करीब एक महीने तक उसका इलाज चला। 6 अगस्त 2016 को उसकी मौत हो गई। इसके बाद एसडीओ के ड्राइवर प्रीतम उमरैया ने हरजीत की पत्नी रामकली देवी को अपने झांसे में ल‍िया और पोस्टमार्टम कराए बिना ही अंतिम संस्कार करवा दिया। 

बाद में हरजीत की पत्नी रामकली ने एसडीओ व उसके ड्राइवर के खिलाफ कोर्ट में परिवाद दायर किया। इसी परिवाद के आधार पर कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने 12 मार्च को आरोपी एसडीओ मरकट व उनके ड्राइवर प्रीतम के खिलाफ धारा 302 लगाकर एसडीओ व ड्राइवर के खिलाफ धारा 302, 34, 201, 506, 120 बी के तहत हत्या व साक्ष्य छुपाने का केस रज‍िस्टर्ड किया।

नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के मुरैना में सरकारी महकमे के एक अफसर ने नौकर को मीट बनाने का आदेश द‍िया। नौकर ने मना क‍िया तो अपने पालतू कुत्ते को उस पर छोड़ द‍िया। एक महीने इलाज के बाद नौकर की मौत हो गई। मामला वर्ष 2016 का है।  फिलहाल दोनों आरोपी फरार हैं।  

नौकर की पत्नी की याचिका पर कोर्ट ने एसडीओ और ड्राइवर के खिलाफ हत्या का केस दर्ज करने का आदेश दिया है। सिटी कोतवाली पुलिस ने मंगलवार को एसडीओ व उसके ड्राइवर के खिलाफ हत्या और साक्ष्य छिपाने का केस दर्ज किया है। 

हरजीत सिंह कुशवाह विभाग में श्रमिक था। एसडीओ मरकट के बंगले पर उसकी ड्यूटी थी। एसडीओ व उसका ड्राइवर प्रीतम उससे मीट बनवाने के अलावा बर्तन भी साफ कराते थे। जुलाई 2016 में मीट बनाने से मना करने पर एसडीओ और ड्राइवर ने पालतू कुत्ता हरजीत के ऊपर छोड़ दिया। 

खूंखार कुत्ते ने हरजीत के शरीर पर दांतों से कई घाव बना दिए थे. हरजीत को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। करीब एक महीने तक उसका इलाज चला। 6 अगस्त 2016 को उसकी मौत हो गई। इसके बाद एसडीओ के ड्राइवर प्रीतम उमरैया ने हरजीत की पत्नी रामकली देवी को अपने झांसे में ल‍िया और पोस्टमार्टम कराए बिना ही अंतिम संस्कार करवा दिया। 

बाद में हरजीत की पत्नी रामकली ने एसडीओ व उसके ड्राइवर के खिलाफ कोर्ट में परिवाद दायर किया। इसी परिवाद के आधार पर कोर्ट के आदेश पर पुलिस ने 12 मार्च को आरोपी एसडीओ मरकट व उनके ड्राइवर प्रीतम के खिलाफ धारा 302 लगाकर एसडीओ व ड्राइवर के खिलाफ धारा 302, 34, 201, 506, 120 बी के तहत हत्या व साक्ष्य छुपाने का केस रज‍िस्टर्ड किया।