सेबी के बाद पीएफओ ने बढ़ाई सहारा समूह की परेशानी, 4 खाते सीज

लखनऊ। सेबी विवाद को लेकर पहले से परेशानियों का सामना कर रही सहारा इंडिया के सामने कर्मचारी भविष्य निधि आॅर्गेनाइजेशन ने नई परेशानी खड़ी कर दी है। पीएफ ​​कार्यालय लखनऊ की ओर से सहारा इंडिया से कर्मचारियों की उपस्थिति की जानकारी मांगी थी। जिसके जवाब में सहारा इंडिया ने अपने कर्मचा​रियों के अटेंडेन्स के विवरण के कुन्टलों प्रिंट आउट भविष्य निधि भवन कार्यालय भेज दिया। सहारा समूह की इस हरकत के बाद पीएफओ ने कार्रवाई करते हुए समूह के चार खातों को अटैच कर दिए। अब सहारा समूह पीएफओ की कार्रवाई के खिलाफ आदलत जाने की तैयारी कर रहा है।

पीएफओ के सूत्रों की माने सहारा समूह से कर्मचारियों की वर्तमान संख्या की जानकारी प्राप्त करने के प्रक्रिया के तहत विभाग ने उपस्थिति रजिस्टर की डिटेल सॉफ्ट कॉपी यानी फ्लॉपी, हार्डडिस्क या फिर सीडी में मांगी थी। लेकिन पूरी प्रक्रिया को जटिल बनाने की नियत के साथ सहारा समूह की ओर से उपस्थिति रजिस्टर की हार्ड कॉपी के रूप में कई कुंटल प्रिंट आउट पीएफ आॅफिस भेज दिए गए। जब शीर्ष अधिकारियों ने कागज के ढ़ेरों को देखा तो सहारा समूह की नियत और तरीके को देखते उनके चार बैंक खातों को अटैच करवा दिया।

{ यह भी पढ़ें:- सहारा को SC का झटका, नीलाम होगी एम्बी वैली सिटी }

सहारा द्वारा पीएफओ के खिलाफ अदालत में अपील किए जाने के बाद विभाग के वकीलों ने अपने जवाब तैयार कर लिए हैं। विभाग के अधिकारियों की माने तो सहारा समूह सरकारी संस्थाओं को नीचा दिखाने का कोई मौका नहीं छोड़ती। जिस तरह से सेबी द्वारा निवेशकों की जानकारी मांगे जाने पर सहारा समूह ने ट्रकों दस्तावेज सेबी के मुंबई स्थि​त कार्यालय भेजे थे, कुछ उसी तरह की प्रतिक्रिया भविष्य निधि विभाग के नोटिस पर भी सामने आई है।

 

{ यह भी पढ़ें:- सहारा की मुश्किलें दोगुनी, सेबी के बाद IT ने ठोंक कई हजार करोड़ का दावा }