धारा 370 थी कैंसर, इसने जम्मू-कश्मीर के लोगों का बहुत खून बहाया : राजनाथ सिंह

rajnath singh
धारा 370 थी कैंसर, इसने जम्मू-कश्मीर के लोगों का बहुत खून बहाया : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली। केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को धारा 370 के बारे में बड़ा बयान दिया है। उन्होने का ये जम्मू—कश्मीर के कैंसर था, जिसने बहुत लोगों का खून बहाया है। इस दौरान उन्होने कहा कि घाटी की तीन चौथाई जनता अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त किये जाने के पक्ष में थी। वहीं उन्होने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि देखते पाकिस्तान कितने आतंकवादी भेजता है, उनमें कोई जिंदा लौटकर नहीं जाएगा।

Section 370 Was Cancer It Made People Bleed A Lot Says Rajnath Singh :

वो पटना में भाजपा की ‘जन जागरण सभा में बोल रहे थे। उन्होने कहा कि आशा करते हैं कि पाकिस्तान 1965 और 1971 की गलतियां नहीं दोहराएगा, उनके साथ बातचीत सिर्फ पीओके पर होगी। धारा 370 को समाप्त किए जाने को लेकर उन्होने कहा कि ये कदम साबित करता है कि पार्टी ईमानदार और विश्वसनीय है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आर्टिकल 370 को हटाना एक सपका सपना था। लोग कहते हैं कि उन्होंने इसका सपना देखा था, मगर यह कभी हकीकत नहीं हो पाया। लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी ने इसे करके दिखाया। पीएम मोदी ने दिखाया कि हम भी सपने देखते हैं, मगर खुली आखों से। इसलिए हमारा सपना हकीकत में बदल पाया।

नई दिल्ली। केन्द्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रविवार को धारा 370 के बारे में बड़ा बयान दिया है। उन्होने का ये जम्मू—कश्मीर के कैंसर था, जिसने बहुत लोगों का खून बहाया है। इस दौरान उन्होने कहा कि घाटी की तीन चौथाई जनता अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त किये जाने के पक्ष में थी। वहीं उन्होने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि देखते पाकिस्तान कितने आतंकवादी भेजता है, उनमें कोई जिंदा लौटकर नहीं जाएगा। वो पटना में भाजपा की 'जन जागरण सभा में बोल रहे थे। उन्होने कहा कि आशा करते हैं कि पाकिस्तान 1965 और 1971 की गलतियां नहीं दोहराएगा, उनके साथ बातचीत सिर्फ पीओके पर होगी। धारा 370 को समाप्त किए जाने को लेकर उन्होने कहा कि ये कदम साबित करता है कि पार्टी ईमानदार और विश्वसनीय है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आर्टिकल 370 को हटाना एक सपका सपना था। लोग कहते हैं कि उन्होंने इसका सपना देखा था, मगर यह कभी हकीकत नहीं हो पाया। लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी ने इसे करके दिखाया। पीएम मोदी ने दिखाया कि हम भी सपने देखते हैं, मगर खुली आखों से। इसलिए हमारा सपना हकीकत में बदल पाया।