अमेरिका-ईरान तनाव बढ़ता देख भारतीय नौसेना ने खाड़ी में तैनात किए जंगी जहाज

ship
अमेरिका-ईरान तनाव बढ़ता देख भारतीय नौसेना ने खाड़ी में तैनात किए जंगी जहाज

नई दिल्ली। अमेरिका और ईरान के बीच खाड़ी में बढ़ते तनाव को देखते हुए भारतीय नौसेना ने खाड़ी क्षेत्र में अपने युद्धपोत तैनात कर दिए हैं। भारत ने समुद्री रास्तों से होने वाले कारोबार और सुरक्षा के तौर पर एहतियातन यह कदम उठाया है, ताकि किसी भी आकस्मिक हालात से समय रहते निपटा जा सके। इसके अलावा ओमान की खाड़ी में पहले से तैनात आईएनएस त्रिखंड को भी सतर्क कर दिया गया है।

Seeing Us Iran Tension Rising Indian Navy Deployed Warships In Gulf :

भारतीय नौसेना ने कहा कि जंगी जहाज और विमानों की तैनाती का मकसद भारतीय व्यापारियों को आश्वस्त करना है कि वे सुरक्षित हैं। हम किसी भी आकस्मिक संकट का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। खाड़ी क्षेत्र की स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। नौसेना देश के समुद्री हितों की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है। नौसेना के अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि मौजूदा हालात को देखते हुए जंगी जहाजों और विमानों को तैनात कर दिया गया है।

समुद्री सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए अंतर-मंत्रालय बैठकें की गई

पिछले साल जून में, नौसेना ने ओमान की खाड़ी में व्यापारिक जहाजों पर हुए हमले के बाद एक समुद्री सुरक्षा ड्रिल ‘ऑपरेशन संकल्प’ शुरू की थी। रक्षा, विदेश, जहाजरानी, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय समेत सभी हितधारकों के साथ इस अभियान को आगे बढ़ाया जा रहा है। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि खाड़ी क्षेत्र में सामुद्रिक सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए नियमित अंतर-मंत्रालय बैठकें की गई हैं।

नई दिल्ली। अमेरिका और ईरान के बीच खाड़ी में बढ़ते तनाव को देखते हुए भारतीय नौसेना ने खाड़ी क्षेत्र में अपने युद्धपोत तैनात कर दिए हैं। भारत ने समुद्री रास्तों से होने वाले कारोबार और सुरक्षा के तौर पर एहतियातन यह कदम उठाया है, ताकि किसी भी आकस्मिक हालात से समय रहते निपटा जा सके। इसके अलावा ओमान की खाड़ी में पहले से तैनात आईएनएस त्रिखंड को भी सतर्क कर दिया गया है। भारतीय नौसेना ने कहा कि जंगी जहाज और विमानों की तैनाती का मकसद भारतीय व्यापारियों को आश्वस्त करना है कि वे सुरक्षित हैं। हम किसी भी आकस्मिक संकट का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। खाड़ी क्षेत्र की स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। नौसेना देश के समुद्री हितों की सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है। नौसेना के अधिकारियों ने बुधवार को बताया कि मौजूदा हालात को देखते हुए जंगी जहाजों और विमानों को तैनात कर दिया गया है। समुद्री सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए अंतर-मंत्रालय बैठकें की गई पिछले साल जून में, नौसेना ने ओमान की खाड़ी में व्यापारिक जहाजों पर हुए हमले के बाद एक समुद्री सुरक्षा ड्रिल ‘ऑपरेशन संकल्प’ शुरू की थी। रक्षा, विदेश, जहाजरानी, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय समेत सभी हितधारकों के साथ इस अभियान को आगे बढ़ाया जा रहा है। वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि खाड़ी क्षेत्र में सामुद्रिक सुरक्षा स्थिति की समीक्षा के लिए नियमित अंतर-मंत्रालय बैठकें की गई हैं।