गिरफ्तारी के तीन साल बाद कुलभूषण जाधव से मिले वरिष्ठ भारतीय राजनयिक

kulbhusan jadhav
गिरफ्तारी के तीन साल बाद कुलभूषण जाधव से मिले वरिष्ठ भारतीय राजनयिक

नई दिल्ली। पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को गिरफ्तारी के तीन साल बाद पहली बार सोमवार को कॉन्सुलर एक्सेस मिला। बता दें कि भारतीय डिप्टी हाई कमिश्नर गौरव अहलूवालिया ने इस्लामाबाद में कुलभूषण से मुलाकात की। फिलहाल ये ​मुलाकात कहां कराई गई है, इसके बारे में नहीं बताया गया है। हालाकि पहले बताया गया था कि ये मुलाकात पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय कराई जाएगी। गौरव अहलूवालिया और कुलभूषण जाधव के बीच ये मुलाकात करीब ढाई घंटे तक चली।

Senior Indian Diplomat Meets Kulbhushan Jadhav Three Years After His Arrest :

बता दें कि सोमवार दोपहर 12.30 बजे गौरव अहलूवालिया और कुलभूषण जाधव के बीच मुलाकात शुरू हुई, जो करीब ढाई बजे तक चली। सुरक्षा कारणों की वजह से ये बात मीडिया को नहीं बताई गई कि आखिर ये बैठक कहां पर हुई।

बताया जा रहा है कि इस दौरान गौरव अहलूवालिया ने कुलभूषण जाधव से जेल में उनके साथ व्यवहार के बारे में पूछा। साथ ही उनकी दिक्कतों, मांग या फिर आगे की रणनीति के बारे में चर्चा की। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव पर जासूसी का आरोप लगाया है, 2016 में उन्हें बलूचिस्तान इलाके से गिरफ्तार किया था। तब से अभी तक कॉन्सुलेर एक्सेस नहीं दिया गया था।

नई दिल्ली। पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को गिरफ्तारी के तीन साल बाद पहली बार सोमवार को कॉन्सुलर एक्सेस मिला। बता दें कि भारतीय डिप्टी हाई कमिश्नर गौरव अहलूवालिया ने इस्लामाबाद में कुलभूषण से मुलाकात की। फिलहाल ये ​मुलाकात कहां कराई गई है, इसके बारे में नहीं बताया गया है। हालाकि पहले बताया गया था कि ये मुलाकात पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय कराई जाएगी। गौरव अहलूवालिया और कुलभूषण जाधव के बीच ये मुलाकात करीब ढाई घंटे तक चली। बता दें कि सोमवार दोपहर 12.30 बजे गौरव अहलूवालिया और कुलभूषण जाधव के बीच मुलाकात शुरू हुई, जो करीब ढाई बजे तक चली। सुरक्षा कारणों की वजह से ये बात मीडिया को नहीं बताई गई कि आखिर ये बैठक कहां पर हुई। बताया जा रहा है कि इस दौरान गौरव अहलूवालिया ने कुलभूषण जाधव से जेल में उनके साथ व्यवहार के बारे में पूछा। साथ ही उनकी दिक्कतों, मांग या फिर आगे की रणनीति के बारे में चर्चा की। गौरतलब है कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव पर जासूसी का आरोप लगाया है, 2016 में उन्हें बलूचिस्तान इलाके से गिरफ्तार किया था। तब से अभी तक कॉन्सुलेर एक्सेस नहीं दिया गया था।