1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. कोरोना के कारण कर्ज के जाल में फंसी सेक्स वर्कर्स, जानिए लॉकडाउन के बाद क्या हाल है उनका?

कोरोना के कारण कर्ज के जाल में फंसी सेक्स वर्कर्स, जानिए लॉकडाउन के बाद क्या हाल है उनका?

By शिव मौर्या 
Updated Date

कोलकता। कोरोना के कहर से कोई बच नहीं पाया है। आर्थिक रूप से हर किसी को कोरोना काल में नुकसान हुआ है। ऐसे में एशिया के सबसे रेड लाइट एरिया सोनागाछी में करीब 89 फीसदी सेक्स वर्कर्स कोविड के दौरान कर्ज की जाल में फंस गयीं हैं। देह व्यापार बंद होने की वजह से वह लोन और उधार लेकर अपना जीवन यापन कर रहीं हैं।

पढ़ें :- गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर AIMIM ने घोषित किये तीन प्रत्याशी, एक हिंदू को बनाया उम्मीदवार

एक ताजा सर्वे में सामने आया है कि इन सेक्स वकर्स के लिए यह समय कितना मुश्किल रहा है। एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग एनजीओ की ओर से किए गए सर्वे के नतीजों से पता चला कि लॉकडाउन के बाद 73 फीसदी सेक्स वर्कर्स इस धंधे से बाहर निकलना चाहती हैं और आमदनी के लिए नई रास्ते तलाशना चाहती हैं, लेकिन वे ऐसा नहीं कर सकती हैं क्योंकि उन्होंने असंगठित क्षेत्र से खासकर उधार देने वालों, वेश्यालय के मालिक और दलालों से कर्ज लिया है।

इसकी वजह से उनका आगे भी शोषण हो सकता है। इस सर्वे में कहा गया है कि सोनागाछी की करीब 89 फीसदी सेक्स वर्कर्स महामारी के दौरान कर्ज की जाल में फंस चुकी है। इनमें से 81 फीसदी से अधिक ने असंगठित क्षेत्रों खासकर उधार देने वालों, वेश्यालय के मालिकों और दलालों से उधार लिया है।

इस वजह से उनका और अधिक शोषण हो सकता है। 73 फीसदी सेक्स वर्कर्स देह व्यापार को छोड़ना चाहती हैं, लेकिन अब वे चाह कर भी ऐसा नहीं कर सकती हैं, क्योंकि जिंदा रहने के लिए उन्होंने बड़ी मात्रा में कर्ज लिया है।” सोनागाछी में करीब 7 हजार सेक्स वर्कर्स रहती हैं। मार्च से ही उनका देह व्यापार बंद है और इस वजह से उनके लिए आमदनी के साधन बंद हो चुके हैं। जुलाई से सोनागाझी में करीब 65 पर्सेंट कारोबार शुरू हुआ। सर्वे के लिए करीब 98 फीसदी सेक्स वर्कर्स से संपर्क किया गया।

 

पढ़ें :- UP Rain Alert : यूपी के 38 जिलों में येलो अलर्ट, 40 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से चलेंगी हवाएं

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...